scriptGuddi's amazing, Rajasthan is getting rich | गुदड़ी का कमाल, राजस्थान हो रहा मालामाल | Patrika News

गुदड़ी का कमाल, राजस्थान हो रहा मालामाल

भारत में हर साल 10 लाख टन से ज्यादा कपड़ों की रद्दी निकलती है। महानगरों के कुल सूखे कचरे में एक तिहाई कपड़े की रद्दी होती है। पर्यावरण के लिए यह एक बड़ी समस्या बन सकती है। दुनिया में कई ऐसे देश हैं जहां यूज्ड कपड़ों के अंबार से वहां की आबोहवा जहरीली हो चुकी है। भारत सरकार इस समस्या को संसाधन मानकर रीसाइकिल्ड उत्पादों को बढ़ा दे रही है।

जयपुर

Published: September 12, 2022 11:20:41 pm

भारत में हर साल 10 लाख टन से ज्यादा कपड़ों की रद्दी निकलती है। महानगरों के कुल सूखे कचरे में एक तिहाई कपड़े की रद्दी होती है। पर्यावरण के लिए यह एक बड़ी समस्या बन सकती है। दुनिया में कई ऐसे देश हैं जहां यूज्ड कपड़ों के अंबार से वहां की आबोहवा जहरीली हो चुकी है। भारत सरकार इस समस्या को संसाधन मानकर रीसाइकिल्ड उत्पादों को बढ़ा दे रही है।

cloths.jpg

विशेषज्ञों का मानना है कि सकुर्लर टेक्सटाइल प्रोडक्शन (सीटीपी) तकनीक अपना कर आधे यूज्ड कपड़ों से अन्य उत्पाद बनाए जा सकते हैं। अमरीका - यूरोप सहित कई विकसित देश इसे अपना चुके हैं। भारत, ब्राजील जैसे विकासशील देश पीछे हैं। इससे लाखों लोगों को रोजगार मिल सकता है और अर्थव्यवस्था में अरबों रुपए शामिल हो सकते हैं।

छोटी-बड़ी कपड़ा मिलों से लेकर गारमेट निर्माता रद्दी को रीसाइक्लिंग के लिए मुहैया करा रहे हैं। फैबइंडिया, द कबाड़ीवाला, ईकोहाइक जैसे कई स्टार्टअप कपड़े की कतरन-चिंदी से घरेलू इस्तेमाल के उत्पाद-स्वेटर, कंबल, बैग, कुशन, कार्पेट, रजाई, फर्नीचर, कागज आदि बना रहे हैं। दर्जनों डिजाइनर्स के साथ एनजीओ भी इसमें जुटे हैं।

फटे-पुराने कपड़े व चिंदी जमा करने वालों से लेकर कुशल कारीगरों सहित हजारों लोगों को रोजी-रोटी मिली है। राजस्थान, गुजरात, प. बंगाल, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, छत्तीसगढ़ सहित कई राज्यों के लोग इसमें भूमिका निभा रहे हैं।

दुनिया में आधे से ज्यादा कपड़ा पोलिएस्टर-सिंथेटिक से बनता है। यही बड़ी चुनौती है। सालाना 1.50 करोड़ टन प्लास्टिक फाइबर इस्तेमाल होता है। इसमें कुछ उत्पादों को गलने में 200 साल लग जाते हैं। समुद्र में 1.58 करोड़ टन तक माइक्रोप्लास्टिक्स जमा है। 35% माइक्रोप्लास्टिक कपड़े का है।

सही दिशा में कदम...

भारत में पहले से यह काम हो रहा है। रफ्तार सुस्त थी। अब तेजी आई है। बड़े शहरों में युवा डिजाइनर रद्दी को घरेलू इस्तेमाल की चीजों में तब्दील कर रहे हैं। शिल्पकारों को सरकार प्रोत्साहन दे रही है।

- राहुल मेहता, सीएमएआइ

कतरन-चिंदी से गुदड़ी

हम में से बहुत से लोग गुदड़ी जानते हैं। फैबइंडिया गुदड़ी ब्रांड के तहत कई उत्पाद बेचती है। आकर्षक बनाने के लिए कपड़े की चिंदी से एंब्रायडरी की जाती है। जयपुर में चिंदी से कार्पेट बनाए जाते हैं। बाड़मेर की धनु तहसील में एंब्रायडरी की जाती है।

- आरती रॉय, फैबइंडिया

मुहिम में जुटे एनजीओ

अपैरल एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल (एईपीसी) ने गूंज से हाथ मिलाया है। रद्दी कपड़ों से शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता में उपयोगी चीजें बनाई जाती हैं। अन्य संगठन भी काम कर रहे हैं। रद्दी अब समस्या नहीं संसाधन है। - नरेन गोयनका, अध्यक्ष एईपीसी

newsletter

Anand Mani Tripathi

आनंद मणि त्रिपाठी (@aanandmani) राजनीति, अपराध, विदेश, रक्षा एवं सामरिक मामलों के पत्रकार हैं। पत्रकारिता के तीनों माध्यम प्रिंट, टीवी और आनलाइन में गहरा और अपनी तेज तर्रार रिपोर्टिंग के लिए जाने जाते हैं। पश्चिम बंगाल के कलकत्ता में जन्म हुआ। प्रारंभिक शिक्षा उत्तर प्रदेश के कानपुर और बस्ती में हुई। माध्यमिक शिक्षा नवोदय विद्यालय बस्ती, फैजाबाद और पूर्वोत्तर त्रिपुरा के धलाई जिले में हुई। अयोध्या के साकेत महाविद्यालय से स्नातक और 2009 में जेआईआईएमसी,दिल्ली से पत्रकारिता का डिप्लोमा किया। हरियाणा से पत्रकारिता आरंभ की। शिक्षा, विज्ञान, मौसम, रेलवे, प्रशासन, कृषि विभाग और मंत्रालय की रिपोर्टिंग की। इंवेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग से शिक्षा और रेलवे विभाग के कई भ्रष्टाचार का खुलासा किया। रक्षा मंत्रालय के रक्षा संवाददाता पाठयक्रम-2016 पूरा किया। इसके बाद रक्षा मामलों की पत्रकारिता शुरू कर दी। चीन, पाकिस्तान और कश्मीर मामलों पर तीक्ष्ण नजर रहती है। लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की हत्या 2017, राइफलमैन औरंगजेब की हत्या 2018, जम्मू—कश्मीर में बदले 2018 में बदले राजनीतिक समीकरण, पुलवामा हमला 2019, कश्मीर से 370 का हटना, गलवान घाटी मुठभेड़ 2020 को बेहद करीब से जम्मू और कश्मीर में रहकर ही कवर किया। कोरोना काल 2020 में भी लददाख से नेपाल तक की यात्रा चीन के बदलते समीकरण को लेकर की। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव 2019 में जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और पंजाब की रिपोर्टिंग की। 9 नवंबर 2019 को श्रीराम जन्म भूमि अयोध्या मामले में आए फैसले की अयोध्या से कवर किया। 2022 उत्तरप्रदेश् चुनाव को सहारनपुर से सोनभद्र तक मोटर साइकिल के माध्यम से कवर किया। पत्रकारिता से इतर आनंद मणि त्रिपाठी को संगीत और पर्यटन का जबरदस्त शौक है। इन्हें किसी भी कार्य में असंभव शब्द न प्रयोग करने के लिए जाना जाता है...

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

Uttarakhand News: द्रौपदी का डांडा में हिमस्खल में पर्वतारोहण संस्थान के 29 ट्रेनी बर्फ में फंसे, 8 को रेस्क्यू किया, 21 अभी भी लापता'मोदी-मोदी के नारे... खून की नदियां बह जाएगी कहने वालों को जवाब', अमित शाह की रैली में क्या हुआ ऐसा?Uttarakhand News: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह देहरादून पहुंचकर चीन बॉर्डर पर जवानों के साथ मनाएंगे दशहराIND vs UAE: एशिया कप में भारत की लगातार तीसरी जीत, यूएई को 104 रनों के बड़े अंतर से हरायावायुसेना में अगले साल होगी महिला अग्निवीरों की भर्ती, एयर चीफ मार्शल बोले- साल के अंत में 3000 अग्निवीर IAF में होंगे शामिलDomestic Airlines: एयर इंडिया ने यात्रियों के लिए जारी किया नया मेन्यू, जानिए कौन-कौन से स्वादिष्ट व्यंजन हुए शामिलबिहार में निकाय चुनाव पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक, EBC आरक्षण समाप्त कर नए सिरे से जारी होगा नोटिफिकेशनरक्षा मंत्रालय का अगवा क्लर्क रेवाड़ी से बरामद, किडनैपिंग के 5 दिन में खाते से 21 लाख का लेनदेन, हनीट्रैप की आशंका
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.