आज घोषित होगा गुर्जर आन्दोलन! कर्नल बैंसला की अगुवाई में महापंचायत, डैमेज कंट्रोल में जुटी सरकार

गुर्जर महापंचायत- बयाना, भरतपुर के ग्राम अड्डा में जुट रहा समाज, आन्दोलन की बनेगी रूपरेखा- होगी घोषणा, पुलिस-प्रशासन चौकस, भरतपुर-करौली में इंटरनेट बंद, इधर, सोशल मीडिया पर युवाओं ने चलाई मुहीम,

By: nakul

Published: 17 Oct 2020, 10:42 AM IST

जयपुर।

सरकारी भर्तियों में एमबीसी वर्ग के अभ्यर्थियों को पांच फ़ीसदी आरक्षण सहित अन्य मांगों को लेकर गुर्जरों की महापंचायत आज भरतपुर ककी बयाना तहसील के गांव अड्डा में हो रही है। गुर्जर आरक्षण आन्दोलन के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला की अगुवाई में हो रही इस महापंचायत में प्रदेश भर से गुर्जर समुदाय के पंच-पटेल, नेता-प्रतिनिधि और सैंकड़ों की संख्या में लोग पहुँचने का अनुमान है। इसी महापंचायत में समाज की मांगों पर आन्दोलन की आगामी रणनीति की घोषणा की जायेगी।

पहले गुट, अब एकजुट हुए गुर्जर
महापंचायत से ठीक पहले तक गुर्जर समाज में अंदरूनी सियासत गरमाई हुई थी। कर्नल बैंसला की घोषित महापंचायत का हिम्मत सिंह गुर्जर की अगुवाई वाले गुट ने एतराज जताया था। हिम्मत गुट ने कर्नल बैंसला के खिलाफ खुलकर मुखर हो गया था। इस गुट ने कर्नल बैंसला पर समाज के अन्य प्रमुख लोगों से बातचीत किये बिना महापंचायत बुलाने, फिर स्थान परिवर्तन करने को लेकर एतराज़ जताया था। ये गुट आन्दोलन के बजाये सरकार से बातचीत करने के पक्ष में था। लेकिन शुक्रवार को हिम्मत सिंह समेत अन्य नेताओं ने भी कर्नल बैंसला का समर्थन करने और महापंचायत में शामिल होने का फैसला लिया।

सरकार ने अटकाया रोड़ा
महापंचायत से ठीक एक दिन पहले यानी शुक्रवार को सरकार ने गुर्जर समाज को चेताते हुए कहा कि मौजूदा समय में महापंचायत करना उचित नहीं है। सरकार ने राजस्थान हाईकोर्ट के पूर्व के आदेश और कोरोना महामारी एक्ट का हवाला देते हुए समाज के एकजुट होने को गलत ठहराया। साथ ही महापंचायत के लिए जिला कलेक्टर को अंडरटेकिंग देना भी आवश्यक बताया है।

पुलिस-प्रशासन चौकस
महापंचायत के मद्देनज़र पूरे भरतपुर जिले में पुलिस-प्रशासन अलर्ट मोड पर है। क़ानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए अतिरिक्त फ़ोर्स को तैनात किया गया है। वहीं सोशल मीडिया के ज़रिये फर्जी या समाज को उद्वेलित करने वाले सन्देश, जानकारियाँ या खबरें ना फैलें इसके लिए भरतपुर व करौली में 24 घंटे के लिए इंटरनेट बंद करने के आदेश जारी किये गए हैं। इन दोनों जिलों के जिला कलक्टर्स ने फिलहाल गुर्जर बाहुल्य इलाकों में इंटरनेट बंद रखने का निर्णय लिया है।

सोशल मीडिया पर भी शुरू हुई मुहीम
गुर्जरों की विभिन्न मांगों को लेकर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भी एकजुटता दिखाने की मुहीम शुरू हुई है। समाज के युवाओं ने ट्विटर पर आज सुबह से हैश टैग आरक्षण_हमारा_हक़ मुहीम चलाई है। सन्देश में कहा गया है कि जो भी महापंचायत के लिए अड्डा नहीं पहुँच पा रहे हैं वे इस हैशटैग के साथ ज़्यादा से ज़्यादा प्रतिक्रियाएं पोस्ट करते हुए इसे ट्रेंड करें।

डैमेज कंट्रोल की कवायद शुरू
गुर्जरों को एक बार फिर आन्दोलन की राह पर देखते हुए सरकार आखिरी समय में डैमेज कंट्रोल पर उतरी। जानकारी के अनुसार कर्नल बैंसला से बातचीत की दिशा में आइएएस नीरज के प्पवन को एक बार फिर महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी दी गई है। बैंसला से वार्ता कर पवन सीधे मुख्यमंत्री को संपर्क करेंगे। वहीं आन्दोलन को टालने के लिए मुख्यमंत्री ने गुर्जर समाज से आने वाले दो प्रमुख नेताओं मंत्री अशोक चांदना और डॉ.जितेन्द्र सिंह को ज़िम्मेदारी दी है। मुख्यमंत्री स्वयं महापंचायत से जुडी पल-पल की अपडेट्स ले रहे हैं ।

इन मांगों पर बना हुआ है गतिरोध
1. पूर्व के आन्दोलन के दौरान शहीद हुए तीन व्यक्तियों को मुआवजा-पुनर्वास
2. नियुक्ति पत्र- सरकारी भर्तियों में 5 प्रतिशत (प्रक्रियाधीन+बैकलॉग)
3. 6 मई 2010 के समझौते की पालना
4. मुकदमें वापस हों
5. 1252 का नियमितीकरण
6. देवनारायण योजना की क्रियान्विति

Show More
nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned