बोले सो निहाल, सतश्री अकाल’ से गूंजा मुख्यमंत्री गहलोत का निवास

सिखों के प्रथम गुरू गुरूनानक देवजी के 550वें प्रकाश पर्व के उपलक्ष्य में बुधवार को मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित शबद कीर्तन के कार्यक्रम में गुरूवाणी का अमृत बरसा। श्रद्धामय माहौल में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित पूरी संगत भाव विभोर हो उठी।

जयपुर। सिखों के प्रथम गुरू गुरूनानक देवजी के 550वें प्रकाश पर्व के उपलक्ष्य में बुधवार को मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित शबद कीर्तन के कार्यक्रम में गुरूवाणी का अमृत बरसा। श्रद्धामय माहौल में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित पूरी संगत भाव विभोर हो उठी।

इस अवसर पर सजाए गए विशेष दीवान साहिब के समक्ष मुख्यमंत्री सहित राज्य मंत्रिपरिषद के सदस्यों, विधायकों, अधिकारियों, कर्मचारियों और प्रदेशभर से आए लोगों ने मत्था टेका। गहलोत ने सपरिवार दीवान साहिब के आगे शीश नवाया एवं प्रदेश की खुशहाली और अमन-चैन के लिए अरदास की।

सुबह सुखमणी साहिब के पाठ के साथ कार्यक्रम की शुरूआत हुई। उसके बाद कीर्तन दरबार प्रारम्भ हुआ, जिसमें भाई अमरजीत सिंह पाटियाला वालों तथा दरबार साहेब अमृतसर से गुरूदेव सिंह जी के रागी जत्थों ने शबद गायन कर संगत को निहाल किया। इस दौरान पूरे समय बोले सो निहाल, सतश्री अकाल के जयकारे गूंजते रहे।

राजस्थान आनंद मैरिज रजिस्ट्रेशन नियम-2019 का अनुमोदन
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर प्रदेश में सिख समाज में रीति-रिवाज से हुई शादियों के रजिस्ट्रेशन के उद्देश्य से राजस्थान आनंद मैरिज रजिस्ट्रेशन नियम-2019 के प्रारूप का अनुमोदन किए जाने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सिख समुदाय के प्रबुद्ध लोगों से चर्चा एवं सहमति के बाद राजस्थान आनंद मैरिज रजिस्ट्रेशन नियम-2019 का प्रारूप तैयार किया गया है। साथ ही इसका अनुमोदन भी कर दिया गया है।

सिख अभ्यर्थी परीक्षाओं में धार्मिक प्रतीक धारण करने की छूट
गहलोत ने राज्य में विभिन्न प्रतियोगी तथा शैक्षणिक परीक्षाओं में बैठने वाले सिख धर्म के अभ्यर्थियों को कड़ा, कृपाण एवं पगड़ी आदि धार्मिक प्रतीक धारण कर परीक्षा में शामिल होने की अनुमति देने की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गुरूनानक देवजी ने अंधविश्वासों एवं आडम्बरों का विरोध किया और आपसी मतभेद मिटाकर सभी धर्मों के लोगों को एकजुट रहने का संदेश दिया। सर्वधर्म समभाव की 550 वर्ष पहले की उनकी शिक्षा आज के दौर में ज्यादा प्रासंगिक हो गई है।

गुरूनानक देव जी ने सभी जनों के बीच सौहार्द की कामना की जो उनकी मुख्य शिक्षाओं में से एक है। पंजाबी में इसे ’सरबत दा भला’ कहा गया है। उनकी शिक्षाओं का पालन करते हुए हम सब देश-प्रदेश और समाज में भाईचारा कायम करने के प्रयास करें।

महिलाओं को घूंघट से मिले आजादी
मुख्यमंत्री ने कहा कि गुरूनानक देव महिला सशक्तीकरण के समर्थक थे। उनका कहना था कि हम सभी को जन्म देने वाली महिला होती है, इसलिए हमें महिलाओं का सम्मान करना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब समय आ गया है कि महिलाओं को घूंघट से आजादी मिले।

देश एवं प्रदेश की महिलाएं और पुरूष आगे आकर घूंघट हटाने का अभियान चलाएं। आधुनिक समाज में घूंघट और बुर्का अप्रासंगिक हो चुका है। जिस परिवार में महिलाएं घूंघट में रहती हैं, उस परिवार का विकास नहीं हो पाता।

वर्षभर होंगे कई कार्यक्रम
जयपुर सिटीजन फोरम के अध्यक्ष राजीव अरोड़ा ने कहा कि मुख्यमंत्री निवास पर शबद कीर्तन कार्यक्रम का आयोजन गुरूनानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्सव पर राज्य सरकार द्वारा आयोजित किए जा रहे कार्यक्रमों का एक हिस्सा है। प्रकाश पर्व के उपलक्ष्य में वर्षभर में कई कार्यक्रम होंगे।

उन्हांेने गुरूनानक जयन्ती पर सिखों के प्रमुख धार्मिक स्थल सुल्तानपुर लोधी के लिए निःशुल्क बसों की व्यवस्था करने पर मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि राज्य सरकार जैसलमेर के पोकरण एवं कोटा के गुरूद्वारा श्री अगमगढ़ साहिब में विकास कार्य करवाएगी। साथ ही सिख बहुल जिलों में गुरूनानक स्मृति वन बनाएगी।

firoz shaifi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned