राम मंदिर निर्माण राष्ट्र के अस्तित्व का विषय

राम मंदिर निर्माण राष्ट्र के अस्तित्व का विषय

Harshit Jain | Publish: Sep, 09 2018 10:20:11 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

-दो दिवसीय ज्ञानम महोत्सव का हुआ रविवार को समापन, मुगल सम्राट बहादुर शाह जफर के पड़पौते प्रिंस याकूब हबीबुद्दीन तुशी ने भी की शिरकत

जयपुर. अपने विवादित बयानों को लेकर सुर्खियों में रहने वाले भाजपा विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने अब सुप्रीम कोर्ट को पत्र लिखने का दावा किया है जिसमें आहूजा कोर्ट से पूछेंगे कि रकबर की मौत के मामले में तो सुप्रीम कोर्ट ने प्रसंज्ञान लिया लेकिन डॉ. नारंग की हत्या की घटना पर यह प्रसंज्ञान क्यों नहीं लिया गया। उन्होंनेे रकबर मामले में पुलिस की ओर से दायर चार्जशीट को एक तरफा बताया है। दरअसल आहूजा रविवार को टोंक रोड स्थित एक होटल में दो दिवसीय ज्ञानम फाउंडेशन और मैसेज संस्थान की ओर से आयोजित ज्ञानम फेस्टिवल के दूसरे दिन सेशन सनातन संस्कार और भीड़ तंत्र का मंत्र में हिस्सा ले रहे थे। समापन समारोह के दौरान धर्माचार्यों, विद्वतजनो, शिक्षाविदों और राजनीतिज्ञों ने विभिन्न सत्रों में परस्पर चर्चा की और देश को आध्यात्मिक और सामाजिक दृष्टि से दिशा देने पर चिंतन मनन किया। वहीं ज्योतिषविदों ने धर्म, तंत्र-मंत्र, विज्ञान और धर्म के गूढ़ रहस्यों पर प्रकाश डाला।


राजनीति ने बांट दिया देश को
सत्र राम मंदिर कितनी हकीकत, कितना फसाना। मन, मंशा और मिशन में मुगल सम्राट बहादुर शाह जफर के पड़पौते प्रिंस याकूब हबीबुद्दीन तुशी, धनेशमणि त्रिपाठी, डॉ.कुमार गणेश के बीच संवाद हुआ। जिसका संचालन जय आहूजा ने किया। प्रिंस तुशी ने कहा कि न्यायालय के आदेश के अनुसार अगर अयोध्या में विवादित रामलला की भूमि हमारे स्वामित्व की है तो उसे राम मंदिर निर्माण के लिए मैं स्वयं राष्ट्र को भेंट करूंगा और पहली ईंट अपने हाथों से लगाऊंगा। यदि कोर्ट का निर्णय निर्मोही अखाड़े के पक्ष में जाता है तो भी मैं अयोध्या के मुस्लिमों को राम मंदिर के निर्माण के लिए सहमत करूंगा। अभी जिस भूमि पर विवाद है वहां नमाज पढ़ी ही नहीं जा सकती। इस मामले में राजनीतिक रोटियां सेंकने के लिए ही मामले को तूल दिया गया है। रामलला के स्थान पर मन्दिर और परिक्रमा के बाहर मस्जिद बनने पर दोनों पक्षों में सहमति बनी थी लेकिन वोटों की फसल काटने के लिए उसे विवादित रंग दिया गया और राष्ट्रीय सामाजिक हित को धार्मिक रूप दे दिया गया। राम मंदिर निर्माण राष्ट्र के अस्तित्व का विषय है लेकिन राजनीति ने देश को ही बांट दिया है।

जोड़ा जाना चाहिए कर्तव्यों को
राजनीति में धर्म का इस्तेमाल कितना सही कितना गलत सत्र में राज्य वित्त आयोग की अध्यक्ष डॉ.ज्योति किरण शुक्ला और अन्य शख्सयितों ने परिचर्चा की। डॉ.ज्योति ने कहा कि धर्म वह है जो कि हम धारण करते हैं। राजनीति को यदि धर्म से जोड़कर देखा जाए तो उसमें सिर्फ पूजा पद्धति को ही नहीं बल्कि कर्तव्यों को भी जोड़ा जाना चाहिए। गीता-पुराण, शाश्वत सत्य सत्र में गीता की व्याख्या करते हुए आज के संदर्भ में गीता के प्रसंगों और उपदेशों की उपयोगिता पर प्रकाश डाला। टेरो, अंक शास्त्र, तंत्र-मंत्र एक वैज्ञानिक व्याख्या में विद्धानों ने परस्पर संवाद में टोना टोटका और तंत्र पर बात की।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned