scriptHandle market volatility with Asset Allocation Fund | Asset Allocation Fund: बाजार की अस्थिरता को आसानी से निपटिए | Patrika News

Asset Allocation Fund: बाजार की अस्थिरता को आसानी से निपटिए

किसी आम आदमी के लिए सही समय पर सही एसेट क्लास में निवेश ( Asset Allocation Fund ) करना एक चुनौतीपूर्ण काम होता है। निवेशक अक्सर यह सोचकर हैरान रह जाते हैं कि निवेश का निर्णय लेते समय किसी विशेष असेट क्लास के लिए मूल्यांकन सस्ता है या महंगा।

जयपुर

Published: June 20, 2022 01:24:52 pm

किसी आम आदमी के लिए सही समय पर सही एसेट क्लास में निवेश करना एक चुनौतीपूर्ण काम होता है। निवेशक अक्सर यह सोचकर हैरान रह जाते हैं कि निवेश का निर्णय लेते समय किसी विशेष असेट क्लास के लिए मूल्यांकन सस्ता है या महंगा। एक और चुनौती यह भी आती है कि किसी विशेष असेट क्लास में कब प्रवेश करना और बाहर निकलना है। साथ ही, जब फिर से संतुलन की बात आती है, तो यहां हर एक्शन पर टैक्स लगता है, चाहे वह छोटी या लंबी अवधि की हो। वास्तव में, जब भी आवश्यक हो, सही असेट क्लास में निवेश करना और उसके बाद फिर से संतुलन स्थापित करना कोई आसान काम नहीं है। यहीं से आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल एसेट एलोकेशन फंड (एफओएफ) आता है।
Asset Allocation Fund: बाजार की अस्थिरता को आसानी से निपटिए
Asset Allocation Fund: बाजार की अस्थिरता को आसानी से निपटिए
निफ्टी इंडेक्स को भी मात देने में कामयाब
यदि किसी निवेशक ने मार्च 2010 में एकमुश्त 10 लाख रुपए का निवेश किया होगा, तो वह आज 41.41 लाख रुपए के बराबर होगा। इसी समय सीमा के दौरान, निफ्टी 50 में यही निवेश 39.03 लाख रुपए होगा। इस दौरान स्कीम की एवरेज इक्विटी महज 43 फीसदी थी। इससे पता चलता है कि कम इक्विटी आवंटन के बावजूद, लंबी अवधि में फंड निफ्टी इंडेक्स को भी मात देने में कामयाब रहा है। रिटर्न शुद्ध रूप से रिटर्न हैं। इस योजना में फंड ऑफ फंड स्ट्रक्चर है और मुख्य रूप से आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल के इन-हाउस वैल्यूएशन मॉडल के आधार पर इक्विटी और डेट म्यूचुअल फंड योजनाओं के बीच एलोकेट करती है। इस स्कीम में सोने में भी आवंटन है। इस फंड की एक खास बात यह है कि वैल्यूऐशन मॉडल के आधार पर इक्विटी और डेट दोनों में आवंटन 0 से 100 फीसदी तक हो सकता है। यह मॉडल बाजार में गिरावट आने कम पर खरीदो और ज्यादा पर बेचो के सिद्धांत का अनुसरण कर इक्विटी एक्सपोजर बढ़ाता रहता है।
उतार-चढ़ाव के दौरान एसेट एलोकेशन का पालन करें
अगर किसी को 10,000 रुपए का मासिक एसआईपी शुरू करना है, तो एक दशक में निवेश राशि 12 लाख होगी और निवेश का वर्तमान मूल्य 22.3 लाख होगा, जो 13.3 फीसदी की सीएजीआर के बराबर होगा। अगर किसी को कम समय के लिए जैसे कि 3, 5 या 7 साल के लिए निवेश रूप में देखा जाए तो यह स्कीम 10 फीसदी से अधिक रिटर्न देने में कामयाब रही है, जो बेंचमार्क यानी क्रिसिल हाइब्रिड 50+50 - मॉडरेट इंडेक्स के या तो बराबर है या इसके आसपास है। काफी सारे कारक हैं जो बाजार में उतार-चढ़ाव का कारण बन सकते हैं। ऐसे समय में निवेश करने के लिए एसेट एलोकेशन का पालन करना पड़ता है, जिसमें आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल एसेट एलोकेटर फंड माहिर है। ऐसे में वे निवेशक जो लंबे समय तक निवेश में बने रहने के लिए तैयार हैं, उन्हें निवेश का अच्छा अनुभव प्राप्त होने की संभावना है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Ranji Trophy Final: मध्य प्रदेश ने रचा इतिहास, 41 बार की चैम्पियन मुंबई को 6 विकेट से हरा जीता पहला खिताबBypoll results 2022 LIVE: UP की आजमगढ़ सीट से निरहुआ की हुई जीत, दिल्ली में मिली जीत पर केजरीवाल गदगदMaharashtra Political Crisis: केंद्र ने शिवसेना के बागी 15 विधायकों को दी Y प्लस कैटेगरी की सुरक्षा, शिंदे गुट ने डिप्टी स्पीकर के खिलाफ लिया ये फैसलाMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में क्या बीजेपी फिर सत्ता में करने जा रही है वापसी? केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दानवे ने दिया ये बड़ा बयानसिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद, फिर से सामने आया कनाडाई (पंजाबी) गिरोहMumbai News Live Updates: कलिना, सांताक्रूज में पार्टी कार्यकर्ताओं के कार्यक्रम में शामिल हुए आदित्य ठाकरेMaharashtra Political Crisis: शिवसेना को बीजेपी से दूर क्यों रखना चाहते हैं उद्धव ठाकरे? समझिए पूरा समीकरणIAS के बेटे की मौत या मर्डर? छापेमारी में मिला 12 किलो सोना, 3 KG चांदी, जानिए क्या है पूरा मामला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.