scripthealth | अब तक 30 हजार करोड़ खर्च चुके हेल्थ मिशन की सच्चाई निकली कुछ और... | Patrika News

अब तक 30 हजार करोड़ खर्च चुके हेल्थ मिशन की सच्चाई निकली कुछ और...

हेल्थ मिशन

जयपुर

Updated: February 17, 2022 02:37:00 pm

विकास जैन
जयपुर. देश में 17 वर्ष पहले अप्रेल वर्ष 2005 में गांवों तक स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूती देने और शिशु व मातृ मृत्यु दर में कमी लाने के लिए हेल्थ मिशन की स्थापना की गई थी। लेकिन अब भी स्थिति यह है कि सालाना 25 हजार नवजात शिशुओं की मौत तो जन्म के साथ ही मिले कुपोषण, मां की कोख में मिले संक्रमण और गर्भवती के प्रसव पूर्व सभी जांचें नहीं कराने के कारण हो रही है।
hospital
करीब 75 प्रतिशत ग्रामीण आबादी वाले प्रदेश में मौजूदा जनसंख्या के आधार पर करीब 500 नवजात शिशु रोग इकाइयों की जरूरत है, लेकिन इनकी संख्या अब भी करीब 60 ही हैं। इनमें भी निचले स्तर के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर तो यह संख्या करीब 20 बताई जा रही है। करीब 3200 प्राथमिक स्तर के अस्पतालों में से भी 2 हजार में ही प्रसव की सुविधा उपलब्ध है। अनुमानित 3 हजार स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञों की जरूरत वाले प्रदेश में अभी 1100 ही उपलब्ध हैं। इनमें भी 80 प्रतिशत बड़े शहरों में ही हैं।
संसाधन बढ़े तो तेजी से होगी मृत्यु दर में गिरावट

स्वास्थ्य के विभिन्न सर्वे के मुताबिक प्रदेश में सालाना होने वाली नवजात शिशुओं की मौत के कारणों में परिवहन सुविधाओं, उचित नवजात शिशु इकाइयों और विशेषज्ञों की कमी नवजात की मौत के अन्य कारणों में शामिल है। हालांकि कुछ राहत यह है कि इस दौरान शिशु मृत्यु दर में करीब 50 प्रतिशत तक की गिरावट आई है। जो दर पहले 60 के आस पास थी, वह अब 30 के करीब है। इसमें भी बड़ा कारण लोगों में बढ़ती जागरूकता और अधिकांश प्रसव बड़े शहरों के अस्पतालों में होना भी माना जा रहा है। संसाधनों की कमी पूरी करने पर ध्यान दिए जाने पर इस दर में और कमी आ सकती है। स्थिति यह है कि अपने गांव के आस पास सभी सुविधाएं नहीं होने से आज भी 45 प्रतिशत गर्भवती महिलाएं प्रसव से पहले सभी जांचें नहीं कराती, वे अपनी जांच को टालती रहती हैं।
एक्सपर्ट कमेंट

कई तरह की स्वास्थ्य योजनाओं से पहले से सुधार तो काफी आया है, लेकिन शिक्षा में कमी और दूरदराज के गांवों में पर्याप्त सुविधाएं नहीं मिलने के कारण गर्भवती समय पर सभी जांचें कराने के बजाय टालती रहती हैं। परिवहन सुविधाओं की कमी भी इनके लिए बाधा बनती है। ये सोचती हैं कि जब सेंटर पर जाएंगे तब जांच करा लेंगे। संक्रमण, कुपोषण इस कारण बढ़ते रहते हैं।
डॉ.विमला जैन, पूर्व अधीक्षक, महिला चिकित्सालय, सांगानेरी गेट

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Veer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनName Astrology: इन नाम वाले लोगों के जीवन में अचानक से धनवान बनने का होता है योगफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटबुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामबेहद शार्प माइंड होते हैं इन 4 राशियों के लोग, बुध और शनि देव की रहती है इन पर कृपाज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

कश्मीर में आतंकी हमले में टीवी एक्ट्रेस की मौत, 10 साल के भतीजे पर भी हुई फायरिंगसुरक्षा एजेंसियों ने यासीन मलिक की सजा के बाद जारी किया आतंकी हमले का अलर्टIPL 2022, LSG vs RCB Eliminator Match Result: पाटीदार के दम पर जीता RCB, नॉकआउट मुकाबले में LSG को 14 रनों से हरायाटेरर फंडिंग केस में यासीन मलिक को उम्र कैद की सजा, 10 लाख का जुर्मानायासीन मलिक की सजा से तिलमिलाया पाकिस्तान, PM शहबाज शरीफ, इमरान खान, शाहिद आफरीदी को आई मानवाधिकार की यादAir Force के 4 अधिकारियों की हत्या, पूर्व गृहमंत्री की बेटी का अपहरण सहित इन मामलों में था यासीन मलिक का हाथअमरनाथ यात्रियों को तीन लेयर में मिलेगी सिक्योरिटी, ड्रोन व CCTV कैमरों के जरिए भी रखी जाएगी नजरमहबूबा मुफ्ती ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा- आप बता दो कि मुसलमानों के साथ क्या करना चाहते हो
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.