Healthcare sector: हेल्थकेयर सेक्टर मजबूत ग्रोथ के लिए अच्छी पोजीशन में

जयपुर। नीति आयोग ( NITI Aayog ) की 2021 की रिपोर्ट के अनुसार, फार्मा सेक्टर ( pharma sector ) में ग्रोथ का साइज 2030 तक 12.88 लाख करोड़ रुपए का हो सकता है, जो अभी 4.84 लाख करोड़ रुपए का है। इसका कारण बढ़ती इनकम, स्वास्थ्य ( health awareness ) के प्रति ज्यादा जागरुकता और बीमा की पहुंच है। सरकार का उद्देश्य हेल्थकेयर में होने वाले खर्च को जीडीपी की तुलना में 2025 तक 2.5 फीसदी करने का है। साथ ही भारत को ग्लोबल हेल्थकेयर हब ( global healthcare hub ) बनाना है।

By: Narendra Kumar Solanki

Published: 13 Oct 2021, 01:36 PM IST

जयपुर। नीति आयोग ( NITI Aayog ) की 2021 की रिपोर्ट के अनुसार, फार्मा सेक्टर( pharma sector ) में ग्रोथ का साइज 2030 तक 12.88 लाख करोड़ रुपए का हो सकता है, जो अभी 4.84 लाख करोड़ रुपए का है। इसका कारण बढ़ती इनकम, स्वास्थ्य के प्रति ज्यादा जागरुकता और बीमा की पहुंच है। सरकार का उद्देश्य हेल्थकेयर में होने वाले खर्च को जीडीपी की तुलना में 2025 तक 2.5 फीसदी करने का है। साथ ही भारत को ग्लोबल हेल्थकेयर हब बनाना है। इन सभी का मतलब है कि हेल्थकेयर सेक्टर मजबूत ग्रोथ के लिए अच्छी पोजीशन में है। आदित्य बिड़ला सन लाइफ का हेल्थकेयर ईटीएफ निवेशकों को इस सेक्टर से लंबी अवधि में फायदा देने का विकल्प दे रहा है। इसमें कम से कम 500 रुपए और फिर 100 रुपए के गुणक में निवेश किया जा सकता है।
आदित्य बिड़ला सन लाइफ असेट मैनेजमेंट ( Aditya Birla Sun Life mutual fund ) के एमडी ए. बालासुब्रमणियन ने कहा कि हेल्थकेयर रेवेन्यू, एक्सपोर्ट और रोजगार पैदा करने में भारत के प्रमुख सेक्टर्स में से एक है। इसकी बढ़त हेल्थकेयर कंपनियों के मार्केट में प्रदर्शन को दिखाती है। निफ्टी हेल्थकेयर इंडेक्स अपनी बेस तारीख से 9 गुना से ज्यादा बढ़ा है, जबकि निफ्टी इसी समय में 8 गुना बढ़ा है। इसने 3 और 10 सालों में 10 फीसदी से ज्यादा रिटर्न दिया है।
आदित्य बिड़ला सन लाइफ हेल्थकेयर ईटीएफ निवेशकों को अच्छी तरह से एक विविधीकृत इंडेक्स और उससे जुड़े ऐसे सेक्टर तक पहुंच बनाने में मदद करेगा, जिसमें मजबूत विकास प्रदर्शन करने की क्षमता है और जो अर्थव्यवस्था का प्रमुख हिस्सा है। निफ्टी हेल्थकेयर इंडेक्स में ज्यादा से ज्यादा २० ट्रेड करने वाले स्टॉक होते हैं। इसका एक्सचेंज में लिस्टेड कंपनियां और अच्छी तरह से विविधीकृत सब सेक्टर में अलोकेशन होता है। इसमें फार्मा, हॉस्पिटल्स, मेडिकल डिवाइसेस और सप्लाई, लैबोरेटरीज और डायग्नोस्टिक्स के साथ-साथ मेडिकल इंश्योरेंस के कारोबार में शामिल कंपनियां होती हैं। इस इंडेक्स में फ्री फ्लोट मार्केट कैपिटलाइजेशन का तरीका अपनाया जाता है। यह हर छमाही में फिर से चुना जाता है।
आदित्य बिड़ला सन लाइफ म्यूचुअल फंड ने निफ्टी हेल्थकेयर ईटीएफ लॉन्च किया। यह एक ओपन एंडेड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) है। यह निफ्टी हेल्थकेयर टीआरआई (टोटल रिटर्न इंडेक्स) को ट्रैक करेगा। नया फंड ऑफर (एनएफओ) ८ अक्टूबर को खुला है और २० अक्टूबर को बंद होगा। इस स्कीम का उद्देश्य हेल्थकेयर सेक्टर में अवसर का फायदा उठाना और लंबी अवधि में निवेशकों के निवेश को बढ़ाना है। बालासुब्रमणियन ने कहा कि जैसा कि यह पैसिव फंड है, यह निवेश की लागत को कम करता है और स्टॉक के चयन की जरूरतों को पूरा करता है। इस सेक्टर की ग्रोथ की यात्रा में निवेशकों के शामिल होने के लिए हेल्थकेयर ईटीएफ एक आसान रास्ता है। हेल्थकेयर सेक्टर एक स्वस्थ अर्थव्यवस्था के लिए फाउंडेशन का काम करता है।

Narendra Kumar Solanki Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned