राजस्थान में यहां आफत बनकर बरसी बारिश, छह लोग लापता हो गए पानी में

बांधोें के आसपास स्थित गांवों मे रहने वाले लोगों की चिंता बारिश के साथ साथ बढ़ती जा रही है। बारिश के चलते पानी में फंसने और बहने से कई लोग पहले ही लापता हो चुके हैं।

By: JAYANT SHARMA

Published: 23 Aug 2020, 10:37 AM IST

जयपुर
सीजन की पहली ही बारिश ने बांसवाड़ा में आफत ला दी। कई घंटों तक लगातार चली बारिश के बाद पानी की इतनी आवक हुई की छोटे नाले नदियों के रुप में बदल गए और कई बांध लबालब हो गए। वहां आज भी भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। बांधोें के आसपास स्थित गांवों मे रहने वाले लोगों की चिंता बारिश के साथ साथ बढ़ती जा रही है। बारिश के चलते पानी में फंसने और बहने से कई लोग पहले ही लापता हो चुके हैं।

शुक्रवार से कभी तेजी तो कभी धीमी बारिश जारी
बांसवाड़ा जिले में इस मानूसन सीजन की पहली भारी वर्षा हुई है। शुक्रवार शाम 7 बजे से शनिवार सुबह 7 बजे तक 12 घंटे मूसलाधार बारिश से पानी की भरपूर आवक के बाद सुरवानिया बांध के चार गेट खोल दिए गए। वहीं माही बांध के जलग्रहण क्षेत्रों में भी मूसलाधार बारिश के चलते शुक्रवार मध्यरात्रि 12 बजे से शनिवार मध्यरात्रि बाद एक बजे तक 25 घंटों में 5.2 मीटर पानी की आवक हुई। बांध का जलस्तर शनिवार मध्यरात्रि बाद एक बजे तक 277.35 मीटर हो गया। बांध में 442220 क्यूसेस प्रति सैकण्ड की रफ्तार से पानी की आवक हो रही थी। बांध में शुक्रवार रात 12 बजे जलस्तर 272.15 मीटर था। बांध की कुल भराव क्षमता 281.50 मीटर है। इधर, लगातार बारिश से नदी-नाले उफनने से छोटे पुलों पर पानी आ गया। कई गांवों का संपर्क कट गया। कलिंजरा तालाब पर चादर चल गई, वहीं पणदा तालाब भी लबालब हो गया। अनास नदी भी खतरे के निशान को छू गई। देर रात एक बजे तक कई बांधों के आसपास के क्षेत्रों में बारिश का दौर जारी रहा।

टापू बन गया प्रसिद्ध बेणेश्वर धाम
बारिश का दौर रविवार को भी जारी रहा। कई नदी-नाले उफन उठे। बेणेश्वर धाम टापू बन गया। वहीं संभाग के सबसे बड़े माही बांध में भी पानी की आवक तेज हो गई। इधर अनास नदी में डूबे 6 में से 4 की तलाश जारी है। नदी में बहाव अधिक होने से अब गुजरात के हिस्से में तलाश की जा रही है। बेणेश्वर के तीनों पुलों पर पानी आने से आवागमन लगभग बंद हो गया है। गनोड़ा पुल पर 8 फ़ीट से अधिक, वलाई पुल पर 12 फ़ीट से अधिक और साबला पुल पर 5 फीट से अधिक पानी चल रहा है।


कोटा बैराज में कुछ घटा जल प्रवाह
उधर कोटा बैराज बांध के गेट खोलने के बाद अब जल स्तर कुछ घटा है। बांध से डिस्जार्च भी कम किया गया है। अब डिचार्ज 5008 क्यूसेक से घटाकर 3000 क्यूसेक किया गया है। आज तड़के चार बजे एक गेट दो फीट और एक गेट एक फीट खोलकर छोड़ा गया है। सवेरे सात बजे तक बैराज का जल स्तर 853.30 फीट था।

JAYANT SHARMA Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned