उच्चशिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी ने भाजपा कार्यालय में जनसुनवाई के दौरान कहा कि निजी विश्ववि​द्याालयों में डिग्रियों के नाम पर हो रहा है फर्जीवाड़ा

उच्चशिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी ने भाजपा कार्यालय में जनसुनवाई के दौरान कहा कि निजी विश्ववि​द्याालयों में डिग्रियों के नाम पर हो रहा है फर्जीवाड़ा

pankaj soni | Publish: Mar, 14 2018 01:52:56 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

निजी विश्वविद्याालयों में डिग्रियों के नाम पर हो रहा है फर्जीवाड़ा स्टे न आ जाए इसलिए नहीं बनाया नियामक आयोग।


जयपुर। भाजपा प्रदेश कार्यालय में आज जन सुनवाई के दौरान उच्च शिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी ने बयान दिया है कि निजी विश्वविद्यालयों में डिग्रीयों का फर्जीवाडा नही हो इसके लिए नियामक आयोग बनान चाह रहे थे, लेकिन अन्य राज्यों की तरह नियामक आयोग पर स्टे नहीं आ जाए। इसलिए आज तक नियामक आयोग का गठन नही कर सके। उच्च शिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी ने कहा कि फिर भी हम इसके गठन के लिए सभी कानूनी पहलूओं का अध्ययन कर रहे है।

 

 

 

माहेश्वरी ने कहा कि भले ही हम नियामक आयोग का गठन नहीं कर सके लेकिन हाल ही में हमने पत्र जारी किया जिसमे निजी विश्वविद्यायों को कहा है कि वे पीएचडी डिग्री सम्बिन्धत, विश्वविद्वालय में हुए प्रवेश की संख्या, फीस की जानकारी पोर्टल पर अपलोड करे। अब आगामी सत्र में ऐसी जानकारियां िवश्वविद्वालय पोर्टल् पर अपलोड करेगे। वहीं कॉलेजों में ड्रेस कोड के मामले पर कहा कि यह निर्णय वापस ले लिया गया है। लेकिन इसमें सरकार के बैकफुट पर आने जैसी कोई बात नहीं है। क्योंकि छात्रों ने ही कहा था कि हमे ड्रेस कोड की जरूरत नहीं है। छात्र संसद में आए सुझावों के बाद हमने इस निर्णय केा वापस ले लिया।

रही बात मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के टवीट की तो वे प्रदेश की किसी भी पॉजिटिव मामले केा लेकर टवीट कर सकती है। माहेश्वरी ने कहा कि जन सुनवाई में आने वाली परिवेदनाओ का हर हाल में निस्तारण हो इसके लिए हम अब सुनवाई भी नए तरीके से कर रहे है। अब जो भी परिवेदना यहा जनसुनवाई में आएगी हम उसको निस्तारण तक फॉलो करेंगे। इसके साथ ही संबधित विभाग के मत्री को पत्र भी लिखा जाएगा। जिससे यहां आन वाले फरियादियों की सभी परिवेदनाओं का निस्तारण हो इसके लिए हम लगातार प्रयास करते रहते है। वहीं किरण माहेश्वरी ने कहा कि बीकानेर तकनीकी विश्विद्यालय इसी सत्र में शुरू हो जाएगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned