Teacher's day-2019: 'ननद-भोजाई' का अनूठा सरकारी स्कूल, जहां फरार्टदार अंग्रेजी बोलते हैं बच्चे

-आधुनिक सुविधाओं ने बदली तस्वीर
-बच्चों को कराई जाती है हाइटेक पढ़ाई

By: SAVITA VYAS

Updated: 05 Sep 2019, 02:10 PM IST

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

जयपुर। हरियाली की ओट के बीच बेहतरीन रंग-रोगन के साथ पिपराली रोड से ढाई किलोमीटर अंदर समदड़ी जोहड़ी का राजकीय प्राथमिक विद्यालय संघर्ष से बदलाव की कहानी बयां करता है। ननद-भोजाई स्कूल के नाम से मशहूर स्कूल पांचवीं तक हैं, लेकिन सुविधा और संस्कारों की बात करें तो निजी स्कूलों को भी पछाड़ दिया है। स्कूल में प्रवेश से पहले बच्चों के जूते चप्पलों की व्यवस्थित कतार, एक साथ खड़े होकर स्वागत के बाद बच्चों के पैर छूने की परंपरा यहां के अनुशासन और संस्कार का परिचय देती है।

स्कूल की कहानी भी रोचक है। राजकीय प्राथमिक स्कूल समदड़ी जोहड़ी कटराथल में फरवरी 2006 में जैसे ही ननद-भोजाई की नियुक्ति एक साथ हुई, वैसे ही स्कूल के अच्छे दिन शुरू हो गए। स्कूल संस्था प्रधान शारदा देवी व सहायक अध्यापक के पद पर कार्यरत ननंद कमला काजला ने शिक्षा व विकास के कई नए आयाम स्थापित कर स्कूल को एक नया रूप दिया है। दोनों ही बच्चों की स्कूल ड्रेस व कॉपी किताबों का खर्च के साथ स्कूल वेन के ड्राइवर का खर्चा भी हर महीने वहन करती हैं। स्कूली बच्चों की यूनिफॉर्म भी सप्ताह के दिनों के हिसाब से अलग-अलग है। स्कूल में कंप्यूटर लगे हुए हैं। स्कूल में 42 बच्चों का नामांकन हैं। बच्चे फर्राटेदार अंग्रेजी तो बोलते ही साथ ही सामान्य ज्ञान में भी अव्वल हैं। स्थानीय लोगों का लगाव भी जबरदस्त है। स्कूल में फर्नीचर से लेकर इनवर्टर, पंखें आदि उन्हीं की देन है। बच्चे टेबल कुर्सी पर बैठकर पढ़ाई करते हैं। कई दूर-दराज की गांव ढ़ाणियों से भी बच्चें स्कूल में पढऩे आते हैं। इसके साथ-साथ कबड्डी, खो-खो, जिम्नास्टिक व रिले दौड़ के लिए खेल मैदान भी बना हुआ है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned