Himachal Weather || पांच जिलों में हिमस्खलन की चेतावनी

Rakhi Hajela

Updated: 19 Jan 2020, 03:15:38 PM (IST)

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

हिमाचल में मौसम के तेवर और कड़े हो गए हैं। हिमाचल प्रदेश के मशहूर पर्यटन स्थल शिमला और इसके आसपास स्थित स्थानों में भारी बर्फबारी होने से तापमान में और भी ज्यादा गिरावट आई। हालांकि आज सुबह धूप खिली रही। मौसम विभाग के मुताबिक, शिमला में शनिवार की शाम को हल्की बर्फबारी हुई जबकि इसके आसपास स्थित कुफरी और नारकंडा में मध्यम बर्फबारी हुई। कुफरी में तीन सेंटीमीटर हिमपात हुआ और यहां न्यूनतम तापमान शून्य से 4.6 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने प्रदेश के पांच जिलों में हिमस्खलन की चेतावनी दी है। एसडीएमए ने कुल्लू लाहुल स्पीति, चंबा, किन्नौर और शिमला जिले के लिए हिमस्खलन का अलर्ट जारी कर प्रशासन को सतर्क रहने और लोगों से घर से बाहर न निकलने की अपील की है।
केलांग में न्यूनतम तापमान शून्य से 14.6 डिग्री नीचे
मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा, लाहौल और स्पीति, चंबा, मंडी, कुल्लू, किन्नौर और शिमला के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में मध्यम बर्फबारी हुई। लाहौल और स्पीति के मुख्यालय केलांग में न्यूनतम तापमान शून्य से 14.6 डिग्री नीचे दर्ज किया गया जबकि किन्नौर जिले के कल्पा में तापमान शून्य से 8.4 डिग्री नीचे रहा। जानकारी के मुताबिक किन्नौर जिले के रिब्बा गांव में शनिवार को हिमस्खलन हुआ, हालांकि इससे जानमाल को कोई नुकसान नहीं पहुंचा।

मनाली में बिछी बर्फ की चादर
मनाली में अभी भी बर्फ की चादर बिछी हुई है और यहां न्यूनतम तापमान शून्य से 4.4 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। मनाली से सिर्फ 13 किलोमीटर की दूरी पर स्कीइंग के लिए बर्फीले ढलानों में बर्फ की तीन फीट से अधिक मोटी परत जम गई है। शिमला में न्यूनतम तापमान 0.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि डलहौसी और धर्मशाला में यह हिमांक बिंदु से नीचे क्रमश: 2.4 डिग्री और 2.2 डिग्री सेल्सियस रहा। मौसम विभाग ने कहा कि 21 जनवरी को राज्य के कई स्थानों पर दोबारा बर्फबारी हो सकती है, तब तक मौसम शुष्क बना रहेगा।
प्रदेश में २०९ सड़कें बंद, यातायात प्रभावित
शनिवार को शिमला सहित कुफरी और ऊपरी क्षेत्रों में बर्फबारी हुई। ऊना, सोलन सहित शिमला के निचले क्षेत्रों, कांगड़ा जिले में बारिश और ओलावृष्टि हुई। बारिश व बर्फबारी से प्रदेश में 209 सड़कें बंद हो गई हैं। शिमला से कुफरी, नारकंडा, खड़ापत्थर के लिए यातायात बंद रहा। रोहड़ू में भी बर्फबारी की वजह से यातायात प्रभावित रहा। प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में 281 ट्रांसफार्मर बंद होने से कई गांव अंधेरे में डूब गए हैं। ऊना के बंगाणा में आधा फीट ओले पड़े। सोलन के वाकनाघाट सहित शिमला के ढांडा में करीब चार इंच ओले पड़े हैं और वाहनों की आवाजाही प्रभावित हुई। इससे रबी की फसलों को नुकसान हुआ है। इसके साथ ही 20 जनवरी से पश्चिमी हवा सक्रिय होने से 22 जनवरी तक ऊंचे व मध्य पर्वतीय क्षेत्रों में बर्फबारी और निचले क्षेत्रों में वर्षा की संभावना है। इस वजह से प्रदेश में आने वाले दिनों में तापमान में और अधिक गिरावट की संभावना है। प्रदेश में पांच स्थानों पर तापमान जमाव से नीचे है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned