पार्टी आलाकमान ने तय किया गजेन्द्र का नाम, राजस्थान भाजपा से हां का इंतजार

Arvind Singh Shaktawat

Publish: Jun, 14 2018 04:59:15 PM (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
पार्टी आलाकमान ने तय किया गजेन्द्र का नाम, राजस्थान भाजपा से हां का इंतजार

— 16 अप्रेल को अशोक परनामी ने दिया था इस्तीफा
— 18 अप्रेल को इस्तीफा किया गया स्वीकार
— नए अध्यक्ष को लेकर पार्टी आलाकमान और मुख्यमंत्री के बीच तनावपूर्ण स्थिति बरकरार — दिल्ली में अब तक दो माह में तीन बार हो चुकी है अध्यक्ष को लेकर चर्चा
— एक—दो दिन में हो सकती है नए अध्यक्ष की घोषणा

 




जयपुर। राजस्थान भाजपा को नया प्रदेश अध्यक्ष जल्दी ही मिल सकता है। अध्यक्ष कौन होगा इसको लेकर अलग—अलग कयास लगाए जा रहे हैं, लेकिन पार्टी आलाकमान ने पहले से ही जो नाम तय कर रखा है, पार्टी उसे ही अध्यक्ष बनाया जाएगा। वह नाम होगा गजेन्द्र सिंह शेखावत का, जो जोधपुर से सांसद हैं और वर्तमान में केन्द्रीय क2षि राज्य मंत्री हैं। प्रदेश अध्यक्ष के मामले में अमित शाह और वसुंधरा राजे के बीच दिल्ली में आधा घंटे बातचीत के बाद यह कयास लगाए जा रहे हैं कि गजेन्द्र सिंह शेखावत के नाम पर पलटने को आलाकमान राजी नहीं है। संभवत: एक दो दिन में ही प्रदेश अध्यक्ष की घोषणा हो जाएगी।

मुख्यमंत्री की एक दिन पहले दिल्ली में अमित शाह से मुलाकात के बाद भी वें दिल्ली में ही मौजूद है।। उनके सांसद पुत्र दुष्यंत सिंह के साथ वे बीकानेर हाउस भी गईं। बताया जा रहा है कि प्रदेश अध्यक्ष पद पर वे गजेन्द्र सिंह शेखावत को स्वीकार नहीं कर रही हैं और पार्टी आलाकमान ने उनका नाम तय कर रखा है। पार्टी पदेश में किसी तरह का विवाद भी नहीं चाहती और मुख्यमंत्री की मांग को स्वीकार भी नहीं करना चाहती। संघ ने निर्देश दिए हैं कि पार्टी आलाकमान गजेन्द्र सिंह शेखावत के नाम पर राजस्थान भाजपा में भी सहमति बनाए। अध्यक्ष बनाए जाने से पहले सभी पक्षों में सहमति बने, जिससे पार्टी को नुकसान ना हो। गजेन्द्र सिंह शेखावत की घोषणा कब होगी या फिर कोई अध्यक्ष होगा। इस पर ना तो दिल्ली और ना ही राजस्थान का कोई नेता बातचीत करने को तैयार नजर आया, लेकिन सूत्रों के मुताबिक अगले एक-दो दिन में अध्यक्ष की घोषणा हो जाएगी। मलमास के चलते सबसे ज्यादा संभावना 15 जून की बताई जा रही है।
मुख्यमंत्री के हिसाब से तो प्रदेश अध्यक्ष आज भी परनामी
प्रदेश में इस बात की चर्चा बहुत जोरों पर है कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे आज भी अशोक परनामी को प्रदेश अध्यक्ष के रूप में ही पुकारती है, जबकि परनामी को इस्तीफा दिए दो माह होने को आ रहे हैं। इस मामले में पार्टी के अन्दर ही खुसर—फुसर हो रही है। सरकार के प्रेस नोट में बाकायदा परनामी के आगे प्रदेश अध्यक्ष ही लिखा आ रहा है। वहीं, भाजपा की ओर से जो प्रेस नोट जारी हो रहे हैं, उसमें पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लिखा आ रहा है।

खन्ना ने कहा केप्टन जल्द मिलेगा, लेकिन काम नहीं रुक रहा
इस बारे में पार्टी के प्रदेश प्रभारी अविनाश राय खन्ना का कहना है कि पार्टी को जल्द ही नया केप्टन मिलेगा, लेकिन ऐसा नहीं है कि प्रदेश अध्यक्ष नहीं है तो काम नहीं होगा। काम भी हो रहा है और अच्छे से हो रहा है

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned