सदन में हंगामा, प्रश्नकाल- शून्यकाल स्थगित

सदन में हंगामा, प्रश्नकाल- शून्यकाल स्थगित

Arvind Singh Shaktawat | Publish: Sep, 06 2018 02:33:59 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India


राजस्थान विधानसभा का दूसरा दिन चढ़ा हंगामे की भेंट
- मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे रहीं अनुपस्थित

 

जयपुर। राजस्थान विधानसभा का दूसरा दिन हंगामेदार रहा। प्रश्नकाल में प्रश्नों के विलोपित करने के मुद्दे को लेकर जमकर हंगामा हुआ और एक घंटे का प्रश्नकाल पन्द्रह मिनट में ही स्थगत कर दिया गया। इसी तरह शून्यकाल में मुख्यमंत्री की राजस्थान गौरव यात्रा को लेकर सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच जमकर आरोप-प्रत्यारोप लगे और करीब पन्द्रह मिनट के हंगामे के बाद शून्यकाल को भी स्थगित करना पड़ गया।
विधानसभा में सदन के दूसरे दिन शून्यकाल हंगामे की भेंट चढ़ गया। शून्यकाल में विपक्ष के सचेतक गोविन्द सिंह डोटासरा ने गौरव यात्रा के खर्चे को लेकर स्थगन लगाया, जिस पर अध्यक्ष ने बोलने की अनुमति नहीं दी। इससे नाराज विपक्ष वैल में जा पहुंचा और करीब दस मिनट तक हंगामा होता रहा। विपक्ष ने हाय-हाय के नारे भी लगाए। इसी बीच सत्ता पक्ष के युनूस खान, किरण माहेश्वरी समेत अन्य नेता भी खड़े हो गए और आरोप-प्रत्यारोप करने लगे। मामला शांत नहीं हुआ तो अध्यक्ष ने शून्यकाल को स्थगित कर दिया।
युनूस खान ने कांग्रेस राज में हुए कुछ कार्यक्रमों के फोटो भी लहराए और आरोप लगाया कि सरकारी खर्चे पर सोनिया गांधी को बुलाया गया।

एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप

गौरव यात्रा को लेकर हाईकोर्ट ने जो निर्णय दिया है। उसका पालन करेंगे, लेकिन कांग्रेस यह बताए कि तीस जून २०१३ को जो सरकारी कार्यक्रम हुआ था, उसमें सोनिया गांधी, गुरुदास कामत, कांग्रेस के तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष चन्द्रभान मंच पर थे और यह कार्यक्रम सरकारी पैसे से हुआ। परवन सिंचाई परियोजना के कार्यक्रम में भी राहुल गांधी आए और यह कार्यक्रम भी सरकारी खर्चे से हुआ। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की संदेश यात्रा में १६० कार्यक्रम हुए। यह भी सरकारी खर्चे पर हुआ। कांग्रेस की नैतिकता कहां गई। गौरव यात्रा में मात्र चार अगस्त को जो कार्यक्रम हुआ, वह भाजपा का था। - युनूस खान, सार्वजनिक निर्माण मंत्री

- भाजपा सरकारी धन का दुरुपयोग कर रही है। गौरव यात्रा को लेकर हाईकोर्ट का निर्णय आ चुका है। स्थगन प्रस्ताव लगाया तो आश्वासन दिया था कि बोलने दिया जाएगा, लेकिन विधानसभा अध्यक्ष ने शून्यकाल शुरू होने के बाद स्थगन प्रस्ताव पर बोलने का मौका ही नहीं दिया। - गोविन्द सिंह डोटासरा, मुख्य सचेतक, विपक्ष

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned