हिंगोनिया गौशाला घोटाला, अब नगर निगम व एसीबी आमने सामने

फाइलों पर चकल्लस: निगम ने कहा एसीबी से फाइल मिलें तो करें भुगतान, एसीब बोली पत्र लिखें तो फोटो कॉपी उपलब्ध करा देंगे, 4000 गायें थीं और भुगतान 7000 गायों का किया गया था

By: Abrar Ahmad

Updated: 03 Dec 2019, 01:26 AM IST

जयपुर. हिंगोनियां गौशाला में करोड़ों रुपए के चारा घोटाले की फाइलों को लेकर भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) व नगर निगम आमने-सामने हो गए हैं। प्रकरण से जुड़ी दर्जनों फाइलें 2016 में एसीबी ने जब्त की थी। अब नगर निगम कुछ फाइलों को मांग रहा है, ताकि ठेकेदारों को भुगतान किया जा सके। लेकिन एसीबी इन फाइलों को नहीं लौटा रही है। गौशाला में 4000 हजार गायें थीं और चारा 7000 गायों का खरीदना बताया गया था। जबकि गौशाला में करीब 500 गायों की मौत चारा खरीद के दौरान कुपोषण से होना बताया गया था। इतनी गायों की मौत पर देशभर में काफी हंगामा हुआ था। एसीबी ने करीब 7 ठेकेदारों सहित नगर निगम कुछ कर्मचारियों को गिरफ्तार भी किया था। बाद में गौशाला को निजी संस्था को सौंपा गया था।

फाइलें मिलें तो कर लेंगे कॉपी
निगम का कहना है कि एसीबी फाइलें दें तो फोटो कॉपी करवाकर फाइलों को वापस लौटा देंगे। जबकि एसीबी का कहना है कि फाइलें जब्त हैं तो नगर निगम को क्यों लौटाएं। नगर निगम को जिन फाइलों की जरूरत है, उन फाइलों की फोटो करवाकर देने के संबंध में पत्र लिखे। तब उसे फोटो कॉपी करवाकर दे दी जाएगी। हालांकि एसीबी-नगर निगम की इस खींचतान में कई ठेकेदारों का लाखों-करोड़ों रुपए का भुगतान अटकना बताया जा रहा है।इन फाइलों को लौटाने के लिए लिखा पत्रहाल ही में नगर निगम के अतिरिक्त आयुक्त ने एसीबी एसपी को पत्र लिखा है। पत्र में बताया है कि वर्ष 2016 में एसीबी ने हिंगोनिया गौशाला की चारा, दाना, दवाई ठेकेदार सहित निगम के अधिकारी-कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई कर बड़ी संख्या में फाइलें जब्त की थीं। इनमें गौशाला में कई निर्माणकार्य संबंधित फाइलें भी जब्त की गई थीं। फाइलें जब्त होने पर संवेदकों का भुगतान अटक गया है। संवेदकों द्वारा भुगतान करने की मांग करने पर इन फाइलों की नगर निगम मुख्यालय को जरूरत है।-- वर्जन --एसीबी किसी भी मामले में फाइल जब्त करती है तो वह अदालत की सम्पत्ति होती है। नगर निगम को फाइलें चाहिए तो वह उक्त फाइलों की फोटो कॉपी देने के संबंध में एसीबी को पत्र लिख सकता है। पत्र मिलने पर फाइलें लौटा दी जाएंगी।-आलोक त्रिपाठी, डीजी एसीबी राजस्थान--------एसीबी से फाइलें क्यों मांगी, फाइल देखकर ही कुछ बता सकूंगा, अधिकारियों से विचार विमर्श कर कई पत्र जारी करते हैं।-अरुण गर्ग, अति. आयुक्त नगर निगम जयपुर

Abrar Ahmad Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned