छोटी स्वास्थ्य समस्याओं में घरेलू उपाय आजमाएं

लॉकडाउन के समय फार्मेसी और अन्य जरूरी सेवाएं चालू रहेगी लेकिन यदि आप घर से बाहर निकलना पूरी तरह से अवोइड कर रह हैं तो ऐसे में ये घरेलू उपाय छोटी-छोटी स्वास्थ्य समस्याओं में कारगर हो सकते हैं

कफ सीरप की जगह शहद
कफ एक सामान्य सांस संबंधी समस्या है, जो कोल्ड, फ्लू और कोविड-१९ का भी एक लक्षण है। बदलते मौसम में यदि आप भी इस लक्षण से परेशान हैं तो आपको अन्य तरह के लक्षण नहीं है तो शहद का नियमित सेवन करें। दरअसल, शहद में बैक्टीरिया, वायरस और इफ्लेमेशन से लडऩे की ताकत होती है। शहद शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है। चिकित्सक के अनुसार 12 माह से छोटे बच्चों को शहद नहीं दिया जाना चाहिए।
बेस्ट है ऑलिव ऑयल
यदि आप कान में जमा गदंगी के कारण दर्द से परेशान हैं तो आपके लिए ऑलिव ऑयल बेस्ट विकल्प हो सकता है। यूके के हेल्थ एक्सपट्र्स के अनुसार कान की सफाई के लिए ऑलिव ऑयल एक सुरक्षित उपाय है। यह ऑयल न केवल ईयरवैक्स को नरम करता है, बल्कि उसे आसानी से बाहर निकालने में भी मदद करता है। हेल्थ एक्सपट्र्स के अनुसार पानी और ऑलिव ऑयल को मिलाकर उसकी एक-दो बूंदें कान में डालें। फिर कुछ समय बाद ईयरबड से वैक्स को निकाल लें।
विटामिन सी और डी
हेल्थ एक्सपट्र्स के अनुसार विटामिन सी शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का काम करता है। इससे शरीर को कई तरह के वायरस और संक्रमण से लडऩे की ताकत मिलती है। हेल्थ एक्सपट्र्स का मानना है कि विटामिन सी की तरह ही यदि विटामिन डी डाइटरी सप्लीमेंट पर भी ध्यान दिया जाए तो सांस संबंधी समस्याओं से राहत पाई जा सकती है। विटामिन डी के लिए सबसे अच्छा तरीका है सूर्य की रोशनी।
गर्म दूध और एलोवेरा जैल
माइग्रेन सिर का असहनीय दर्द है। इससे राहत पाने के लिए पेनकिलर की हाई डोज तक लेनी पड़ जाती है लेकिन यूके के एक्सपट्र्स का मानना है कि यदि गर्म दूध का सेवन किया जाए और चेहरे एवं कनपटी पर एलोवेरा का जैल लगाया जाए तो माइग्रेन के दर्द से राहत मिलेगी। यह तरीका मांसपेशियों को राहत देने के साथ ही माइग्रेन का दर्द कम करेगा।

Archana Kumawat Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned