भूजल वैज्ञानिक सर्वे कर पता करेंगे धरती का जलस्तर

Ashish Sharma

Publish: May, 17 2018 07:06:50 PM (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
भूजल वैज्ञानिक सर्वे कर  पता करेंगे धरती का जलस्तर

भूजल वैज्ञानिक सर्वे से पता करेंगे धरती का जलस्तर

जयपुरराजस्थान में भूजल स्तर के रिचार्ज की तुलना में पानी के बढ़ रहे दोहन से एक दर्जन जिलों में हालात चिंताजनक हैं। इसका आकंलन अब भूजल विभाग ने शुरू कर दिया है। विभाग ने प्री मानसून सर्वे शुरू कर दिया है जो कि 15 जून तक चलेगा। इस सर्वे के तहत भूवैज्ञानिक विभाग राज्य में अलग अलग स्थानों पर लगे अपने करीब 8 हजार पीजोमीटर और की—वैल के जरिए भूजल स्तर का पता लगाएगा।

मिली जानकारी के मुताबिक भूजल विभाग के वर्ष 2016 और 2017 आंकड़ों के मुताबिक अलवर, बारां, बाड़मेर, भरतपुर, बीकानेर , दौसा और झुंझुनूं ऐसे जिले हैं, जिनमें एक मीटर से ज्यादा भूजल स्तर की गिरावट दर्ज की गई है। इन जिलों के साथ ही राज्य के अन्य जिलों में भूजल स्तर की ताजा स्थिति क्या है। इस प्री—मानसून सर्वे के बाद विभाग पिछले साल के आंकड़ों से तुलना करके यह देखेगा कि राज्य में भूजल स्तर में कहां गिरावट हुई है तो कहां भूजल स्तर में सुधार हुआ है। गौरतलब है कि भूजल विभाग दो बार सर्वे करता है। एक प्री मानसून सर्वे होता है और दूसरा पोस्ट मानसून। इन दोनों ही सर्वों के आधार पर भूजल के रिचार्ज और उसके दोहन की स्थिति स्पष्ट होती है। वर्तमान में राज्य में 295 ब्लॉक हैं। इनमें से 165 ब्लॉक डार्कजोन में हैं।

 

Hydrologist

पेयजल पर खर्च होंगे 103 करोड़
अजमेर शहर की पेयजल व्यवस्था को बेहतर करने के लिए स्मार्ट सिटी एवं अमृत योजना के तहत 103 करोड़ रूपए कार्य स्वीकृत करवाए जाएंगे। योजना के तहत शहर में 4 स्वच्छ जलाशय और 2 उच्च जलाशयों का निर्माण होगा। 94 किमी पाइपलाइन बिछाई जाएगी और 1 लाख पानी के मीटर भी बदले जाएंगे। इसके अलावा स्काडा सिस्टम के तहत सभी पम्प हाउसों को जोड़ा जाएगा।
अल्ट्रासोनिक सेंसर लगेंगे
जलदाय विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक योजना के तहत पानी की टंकियों में अल्ट्रासोनिक सेन्सर भी लगाए जाएंगे। मुख्य पाइपलाइनों पर इलेक्ट्रोमेग्नेटिक फ्लोमीटर लगाने का कार्य भी किया जाएगा। अगले एक साल में सभी काम पूरे कर लिए जाएंगे। इसके साथ ही शहरी जल योजना, अजमेर में विभिन्न पम्प हाउसों में एस्को माॅडल के तहत् 31 उच्च दक्षता वाले और ऊर्जा कुशल पम्प सैट भी लगाए जाएंगे। इससे पम्पिंग स्टेशनों की दक्षता बढ़ेगी और बिजली खपत में भी बचत होगी।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned