आईसीडीएस घोटाले में दलालों के ठिकानों पर मिला ऐसा दस्तावेज की एसीबी के अफसर भी रह गए हैरान

घोटाले में गिरफ्तार दलाल एसके जोशी और कमलजीत राणावत के ठिकानों पर तलाशी के बाद ऐसे दस्तावेज मिले जिसे देख कर टीम के सदस्य हैरान रह गए।

By: Dinesh Gautam

Published: 16 May 2018, 11:42 PM IST

जयपुर
राजस्थान के आईसीडीएस घोटाले में गिरफ्तार दलाल एसके जोशी और कमलजीत राणावत के ठिकानों पर तलाशी के बाद एसीबी को ऐसे दस्तावेज मिले जिसे देख कर टीम के सदस्य हैरान रह गए। दोनों के ठिकानों पर न सिर्फ फर्जी रबर की मुहरें मिली है बल्कि खाली और दस्तख्त किए हुए 39 स्टांप भी मिले है। वहीं एसीबी को ऐसे दस्तावेज मिले है जिसमें प्रदेश के अफसरों, कई जिलों में सरपंच, हैडमास्टर, सरकारी कार्यालय के अधिकारी, कर्मचारी और कई कंपनियों के नाम पर दी गई रिश्वत का रिकार्ड मिला है।
एसीबी को भी हैरान कर दिया दस्तावेजों ने

एसीबी उस दस्तावेज को देख हैरान रह गई कि लेजर में दी गई रकम के सामने साफ तौर पर कमीशन लिखा हुआ है। उल्लेखनीय है कि आईसीडीएस घोटाले में एसीबी ने फिलहाल दो दलाल एसके जोशी और कमलजीत राणावत को गिरफ्तार कर रखा है। उनसे पूछताछ के आधार पर एसीबी ने फिलहाल चार विभागों के अफसरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। वहीं सील किए गए दोनों दलालों के ठिकानों को एसीबी ने खंगाला तो कम्प्यूटरीकृत दस्तावेज बरामद हुए है।

बड़े नामों का उजागर करने से कतरा रही एसीबी

बताया जाता है कि इसमें कई बड़े राजनीतिक रसूखात वाले और अफसरों के नाम शामिल है। जो टेंडर सीएस स्तर पर निरस्त हो गया था वह टेक्नोक्राफ्ट के किसी विष्णु मनवानी के नाम से लिया जा रहा था, जबकि असल में पर्दे के पीछे ये टेंडर कमलजीत राणावत ही ले रहा था।

एसीबी अफसरों के नाम से धमकाता था

दलालों के सर्विलांस पर रखे फोन में रिकार्ड बातचीत में कमलजीत डिपार्टमेंट के कुछ लोगों को एसीबी का डर दिखाकर अपना काम निकलवा रहा था। दरअसल कमलजीत एसीबी के अफसरों की नजर इस डिपार्टमेंट के इस अधिकारी पर है, एेसा बताकर विभाग के अफसरों को डराता भी था और उनको अपने भरोसे में लेकर काम भी निकलवाता था।

लक्जरी लाइफ स्टाइल पसंद है कमल को

एसीबी को कमलजीत के घर को खंगालने पर पता लगा कि वह लक्जरी लाइफ स्टाइल पसंद करता है। वैशालीनगर में करीब दस करोड़ की लागत से मकान बनवा रहा है। वहीं पांच कारें भी उसके पास है जो सभी महंगी और बड़ी है। इसमें बीएमडब्ल्यू, फॉर्च्यूनर, बलेनो, स्कॉर्पियो शामिल है। वहीं एसके जोशी के पास मर्सीडिज है।

सीपीएस में एडमिशन का ठेका भी दलालों के पास

राजस्थान के डॉक्टर्स की ट्रेनिंग कराने वाली सीपीएस के राजस्थान ब्रांच में एडमिशन कराने का ठेका भी दलालों के पास था। कमलजीत ने कई ऐसे दस्तावेज मिले है जो ये साबित करते है कि एडमिशन के नाम पर बड़े लोग इनके संपर्क में आते और मुंहमांगी रकम देकर एडमिशन कराते थे।

Dinesh Gautam
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned