पौधे सुरक्षित नहीं तो कार्रवाई के लिए तैयार रहें- विश्नोई

वन और पर्यावरण मंत्री ने किया पौधरोपण

पौधरोपण कार्यक्रम की शुरुआत

रिक्त पदों पर शीघ्र होगी भर्ती

By: Rakhi Hajela

Updated: 01 Jul 2020, 04:56 PM IST


झालाना लैपर्ड सफारी में बुधवार को वन और पर्यावरण मंत्री सुखराम विश्नोई ने पौधरोपण कार्यक्रम की शुरुआत की। सफारी के जोन १० में उन्होंने मटका विधि से पौधरोपण किया। इस दौरान उनका कहना था कि गत वर्ष विभाग ने मटका विधि की प्रक्रिया शुरू की जिसके परिणाम काफी अच्छे आए हैं इसे ध्यान में रखते हुए अब विभाग इस विधि को न केवल अपना रहा है बल्कि इसे बढ़ावा भी दे रहा है। पौधरोपण के लक्ष्य को लेकर उनका कहना था कि अब हम आंकड़ों की बात नहीं कर रहे, हमारा मकसद इस बार केवल पौधे लगाना ही नहीं है हमारा लक्ष्य है उन्हें विकसित करना जिससे वह पर्यावरण की सुरक्षा को बढ़ावा दिया जा सके। विभाग के फोरेस्टर्स सहित जिन कर्मचारियों को साइट पर पौधरोपण की जिम्मेदारी दी गई है उन्हें इनकी तीन साल तक देखभाल भी सुनिश्चित करनी होती यदि तीन साल तकपौधे सुरक्षित नहीं रहते तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
जूलीफ्लोरा को हटाया जाएगा
विश्नोई ने कहा कि प्रदेश में जहां कभी भी जूलीफ्लोरा फैला हुआ है उसे हटाने के लिए विभाग अभियान चलाएगा। उनके साथ पर आयुर्वेदिक औषधियों के पौधे लगाए जाएंगे साथ ही प्रकृति के अनुरूप पौधे को विकसित किया जाएगा।
प्रकृति के अनुरूप पौधों को विकसित किया जाएगा
लैपर्ड सफारी को कर रहे विकसित
लैपर्ड सफारी को लेकर उनका कहना था कि जिस जगह को आप देख रहे हैं इसे सरकार बदलने के बाद हमने विकसित करने का काम किया है। इसका विकास इस प्रकार से किया जा रहा है कि जब पर्यटक यहां आए तो उन्हें एक अच्छा पर्यटन स्थल देखने को मिले और वह अच्दी याद लेकर यहां से जाए।
विभाग में रिक्त पड़े पदों को लेकर उनका कहना था कि भर्ती की प्रक्रिया चल रही है जल्द ही फोरेस्टर्स के रिक्त पदों के साथ ही अन्य रिक्त पदों को भी भरा जाएगा।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned