Pitru Diwali 2020 - पितृ पक्ष में इस दिन दीवाली भी मनाते हैं पितर, बहुत पसंद है यह मिष्ठान्न

यही कारण है कि इस दिन तर्पण के साथ ही देव दर्शन व दीपदान करने का भी विधान है। इस दिन सभी पितर गयाधाम में उपस्थित होते हैं।

By: deepak deewan

Published: 15 Sep 2020, 10:50 AM IST

जयपुर. पितृ पक्ष की त्रयोदशी तिथि का बहुत महत्व है। इसमें भी जब मघा नक्षत्र का संयोग बनता है तब विशेष श्राद्ध किया जाता है। मघा नक्षत्र का स्वामी स्वयं यमराज को माना जाता है। यही कारण है कि इस दिन विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। श्राद्ध के बाद जरूरतमंदों को भोजन कराना और दान जरूर देना चाहिए।

इस बार त्रयोदशी या मघा श्राद्ध 15 सितंबर 2020 को है. ज्योतिषाचार्य पंडित नरेंद्र नागर के अनुसार मघा नक्षत्र और त्रयोदशी तिथि का संयोग पितरों की खुशी के लिए बहुत खास दिन है। मान्यता है कि इस दिन किए गए श्राद्ध से पितरों को असीम संतुष्टि की प्राप्ति होती है। श्राद्ध महालय के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी पर श्राद्ध करने से पद-प्रतिष्ठा, धन और वंश में वृद्धि होती है।

ज्योतिषाचार्य पंडित दीपक दीक्षित बताते हैं कि त्रयोदशी श्राद्ध को पितृ दीवाली के नाम से भी जाना जाता है। यही कारण है कि इस दिन तर्पण के साथ ही देव दर्शन व दीपदान करने का भी विधान है। इस दिन सभी पितर गयाधाम में उपस्थित होते हैं। श्राद्ध में इस दिन खीर जरूर रखना चाहिए क्योंकि पितरों को मिष्ठान्न के रूप में खीर सबसे ज्यादा पसंद है।

deepak deewan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned