कोरोना कॉल में इस एप ने डाक्टरों तक पहुंच को आसान बनाया

जयपुर. वैश्विक महामारी कोविड-19 के संकटकाल में स्वयं को वायरस से बचाने के साथ साथ रोजाना के कार्यों के लिए बाहर नहीं निकलना पड़े और काम भी सहजता से हो जाये इसमें स्टार्टअप बहुत मददगार साबित हो रहे हैं और ऐसे ही एक स्टार्टअप सिम्पली लोकल ने लॉकडाउन के दौरान लोगों के बीच खासी जगह बना ली है।

By: Subhash Raj

Published: 21 May 2020, 10:46 PM IST

समुदाय आधारित ऐप सिम्पली लोकल लाकडाउन में काफी लोकप्रिय हो रहा है। यह देश का पहला विकेंद्रीकृत सामुदायिक ऐप है जो बड़ी संख्या में लोगों को जियो फेंसिग प्रौद्योगिकी से डिजिटल के माध्यम से जोडऩे में कारगर साबित हो रहा है। लाकडाउन में इसका इस्तेमाल पांच सौ प्रतिशत बढ़ा है। इस ऐप को हाल में उतारा गया था और कोविड-19 की चुनौती से निपटने के लिए देश में लगाए गए लॉकडाडन के दौरान सामने आई चुनौतियों को ध्यान में रखकर इसे उन्नत बनाया गया। अब यह ऐप सरकारी संस्थानों और आरडब्ल्यूए को वायरस के सामुदायिक नियंत्रण में काफी मददगार साबित हो रहा है। कोरोना वायरस का फैलाव बहुत बड़ी चिंता है और सामुदायिक प्रबंध नितांत जरुरी हो गया है। देश के शहरी क्षेत्रों में अत्यंत घनी आबादी और सामाजिक-आर्थिक स्थिति में ऐप के जरिये सूचनाओं का आदान-प्रदान बड़ी आसानी से किया जा सकता है जो संक्रमण के फैलाव को सामुदायिक स्तर पर रोकने में मददगार साबित हो सकता है। ऐप के जरिये किसी भी आपात स्थिति में समुदाय में रहने वालों बुजुर्गों के पास सहजता से पहुंचा जा सकता है। डाक्टरों से संपर्क में मदद मिल सकती है और सबसे अधिक महत्वपूर्ण यह है कि किसी भी आपातस्थिति में एक-दूसरे से संपर्क करना बहुत आसान रहेगा। ऐप में इस बात का पूरी एहतियात बरती गई है कि समुदाय के बीच की सूचनाएं किसी प्रकार से लीक नहीं हो। लॉकडाउन के दौरान ऐप की लोकप्रियता में खासा इजाफा हुआ और इसका डाउनलोड पांच सौ प्रतिशत तक बढ़ गया है।

Subhash Raj
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned