Corona Karmveer: एक तरफ जलती चिता और दूसरी तरफ बन रहा खाना

खाना बनाने को जगह नहीं मिली तो मोक्षधाम में बना ली किचन

विद्याधर नगर के मोक्षधाम में टीम नाइन ने की अनूठी पहल

By: SAVITA VYAS

Published: 05 May 2020, 05:09 PM IST

जयपुर। लॉकडाउन के दौरान कोई भी भूखा नहीं रहे इस संकल्प को पूरा करने को लेकर जयपुर शहर के लोग इन दिनों अलग-अलग तरह से व्यवस्थाएं कर गरीब और असहाय लोगों में खाने का वितरण कर रहे हैं। लोगों के लिए खाना बांटने का कुछ ऐसा ही अनूठा जज्बा विद्याधर नगर में समाजसेवियों में देखने को मिल रहा है। यहां पर खाने के पैकेट बनाने के लिए समाजसेवियों को जगह नहीं मिली तो उन्होंने मोक्ष धाम में ही किचन बना लिया। समाजसेवियों ने मोक्ष धाम को साफ सुथरा किया और अब वहां पर खाना बनाकर रोजाना दो से ढाई हजार खाने के पैकेट बांट रहे हैं। विद्याधर नगर में पूर्व उप राष्ट्रपति भैरों सिंह जी की समाधि के पास स्थित मोक्ष धाम में इन दिनों हर कोई कढ़ाई पर पूड़ी और सब्जी बनते देख सोच में पड़ जाता है की आखिर श्मशान में यह हो क्या रहा हैं। लेकिन विद्याधर नगर की टीम नाइन इन दिनों इसी मोक्षधाम से हजारों खाने के पैकेट तैयार कर रही है। इसके लिए उन्होंने मोक्ष धाम के अंदर ही किचन बना ली हैं।जहां पर पहले खाना पकाकर तैयार किया जाता है और फिर दर्जनों वॉलिंटियर्स, जिसमें महिलाएं भी शामिल हैं वह यही बैठकर खाने को पैक करती है और फिर इस खाने के पैकेट्स को अलग—अलग इलाकों में ले जाकर बांटा जाता हैं।


मोक्षधाम में एक तरफ तो चिता जलती रहती है और एक तरफ की गैस चूल्हे पर कढ़ाई में पूड़ी सब्जी बनती रहती है। हालांकि कुछ स्थानीय लोग इस व्यवस्था को गलत भी बता रहे हैं। वहीं टीम नाइन के संयोजक और पार्षद दिनेश कांवट का कहना है कि जहां पर अंतिम क्रिया की जाती हैं। उस जगह और किचन में करीब २०० मीटर से अधिक की दूरी है। हालांकि परिसर एक ही है लेकिन मोक्ष धाम से ज्यादा पवित्र स्थल भी और कोई जगह नहीं हो सकती है। हम खाना बनाने के दौरान यहां पर साफ सफाई का विशेष ख्याल रखते हैं। हमने यहां पर सैनिटाइज मशीन भी लगा रखी है। कांवट का कहना है कि इस धाम तो एक पवित्र स्थल माना गया है। इसलिए यहां पर खाना पकाने में कोई दिक्कत नहीं है। हजारों पैकेट रोज बनाने के लिए
हमें आसपास में इतनी बड़ी जगह नहीं मिली तो यहां पर हमने साफ सफाई कर खाना बनाने का निर्णय लिया। यही कारण है कि दर्जनों की संख्या में समाजसेवी यहां पर आते हैं और खुद अपने हाथों से सेवा भी करते हैं। सभी ने पवित्र उद्देश्य से इस परिसर में किचन लगाई है और इसका एक ही उद्देश्य है कि गरीब और असहाय लोगों को भूखा नहीं रहने दिया जाए। यहां तक कि महिलाएं और बच्चें भी यहां पर आकर काम में हाथ बटा रहे हैं।

Corona virus
SAVITA VYAS Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned