शर्मनाक! राजस्थान में पेट पालने के लिए बच्चों को रखा जाता है गिरवी, जानें क्या है मजबूरी

पेट पालने के लिए मां-बाप 30 हजार में गिरवी रख देते हैं अपने बच्चे

By: neha soni

Published: 01 Jul 2019, 02:34 PM IST

जयपुर / बारां

अपने बच्चों का पेट पालने के लिए मां बाप क्या कुछ नहीं करते ताकि उनका बच्चा पढ़ लिख सके अच्छा इंसान बन सके। पर क्या कभी आपने ऐसा सुना है की मां बाप अपना पेट पलने के लिए अपने ही बच्चों को गिरवी रख देते है। ये बात जितनी चौंकाने वाली है उतनी ही शर्मनाक भी।

सरकार के नि:शुल्क राशन, शिक्षा और चिकित्सा के दावों से इतर आदिवासी इलाकों में जीवन कितना मुश्किल है, इसका अनुमान केवल इसी बात से लगाया जा सकता है कि जीवन यापन के लिए आदिवासी समुदाय में बच्चों को गिरवी रख दिया जाता है। बारां, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, कुशलगढ़ व मध्यप्रदेश के धार, झाबुआ, अली राजपुर इलाके में आदिवासी समाज में यह अजब रवायत आज भी है। सालभर की मजदूरी के नाम पर 30 से 40 हजार रुपए में रैबारी इन बच्चों को भेड़ और ऊंट चराने का काम देते हैं।

 

 

 

In Rajasthan Parents keep pledging childrens For some money

अनजान बने हुए चाइल्ड लाइन और मानव तस्करी यूनिट


बारां के शाहाबाद उपखंड मुख्यालय के भील समाज के गांव आनासागर, रानीपुरा, हाड़ोता, उचावत, मंगलपुरा,खूंटी, बलारपुर, आदि गांवों के 50 से ज्यादा बच्चे रेबारियों के पास गिरवी हैं। जगह-जगह भेड़ निष्क्रमण के दौरान रेवड़ के साथ यह बच्चे सहज दिख जाते हैं। चौंकाने वाली बात यह है कि चाइल्ड लाइन और मानव तस्करी यूनिट इस गोरखधंधे को जान कर भी अनजान बनी हुई हैं।

 

READ MORE : मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बोले- सिर्फ राहुल गांधी ही कर सकते हैं कांग्रेस का नेतृत्व

 

 

In Rajasthan Parents keep pledging childrens For some money

पत्नी के क्रियाकर्म के लिए रख दिया बेटे को गिरवी


शाहाबाद उपखंड के एक गांव के शामू और रमेश के पिता की तीन चार वर्ष पहले बीमारी से मौत हो गई। पिता की मौत के बाद मां नाते चली गई। चाचा की हैसियत इन्हें पालने की थी नहीं, सो उसने दोनों भाइयों को रेबारियों को 30 हजार रुपए साल में गिरवी रख दिया। दोनों दो वर्ष से रेबारियों के साथ भेड़ें चराते हैं।

शाहाबाद इलाके के एक गांव में दो वर्ष पहले दीन्या की पत्नी की मौत हुई। क्रियाकर्म और अन्य कामों पर 30 हजार रुपए खर्च हो गए। इतने रुपयों की व्यवस्था कैसे होती सो दीन्या ने अपने 14 वर्ष के बेटे को भेड़ें चराने के लिए गिरवी रख दिया। उसका बेटा अभी भी रेबारियों के साथ है।

 

READ MORE : राजस्थान में दर्दनाक हादसा : घर में रखे पेट्रोल में धमाके के साथ लगी भयानक आग, पिता-पुत्री जिंदा जले, मां गंभीर रूप से झुलसी

 

 

In Rajasthan Parents keep pledging childrens For some money

रात भर बच्चे भूख से बिलखते रहते बच्चे

गिरवी रखे जाने वाले बच्चों की उम्र 10 से 14 साल होती है। रेबारी लोग कम उम्र के बच्चों को ज्यादा पसंद करते हैं, क्योंकि कम उम्र के बच्चे खाना भी कम खाते हैं और काम ज्यादा कर पाते हैं। बच्चे कम खाना खाते हैं तो रात के समय में जंगली जानवरों से भेड़, ऊंटों की चौकसी सही होती है। रात भर बच्चे भूख से बिलखते रहते हैं। सुबह होते ही वापस काम पर भेज दिए जाते हैं। ऐसे कई बच्चे हैं, जिनका पूरा बचपन रेबारियों की भेड़ चराने में बीत जाता है।

 

READ MORE : बेटे की आत्मा लेने 2 साल बाद एमबीएस पहुंचे परिजन, तांत्रिकों ने किया अनुष्ठान, टोना-टोटके से अस्पताल में मचा हड़कम्प

 

 

In Rajasthan Parents keep pledging childrens For some money

वर्ष में एक बार घर आते है बच्चे


बच्चों को गिरवी रखने का खेल दलालों के माध्यम से होता है। दलाल दोनों पक्षों को मिलवाता है और दोनों पक्षों से दलाली वसूल करता है। कुछ मामलों में दस रुपए के स्टाम्प पर लिखा पढ़ी होती है। ज्यादातर मामलों में जुबान पर यह पूरा मामला चलता है। जब बच्चे को गिरवी रखा जाता है उस समय कुछ रुपया चुका दिया जाता है। बाकी रुपया रेबारी तीन-चार किस्तों में देते हैं।

 

READ MORE : राहुल गांधी से मिलने दिल्ली पहुंचे गहलोत-पायलट, इधर एक और MLA के इस्तीफे से हड़कंप

 

 

In Rajasthan Parents keep pledging childrens For some money

पेट पालने के लिए रेबारियों को सौंप देते है बच्चे
नाम नहीं छापने की शर्त एक अभिभावक ने बताया कि सरकार की योजनाओं का आदिवासी इलाकों में ज्यादा लाभ नहीं मिला है। हमारे पास खेती के योग्य ज्यादा जमीन नहीं है। वनों की उपज से जो कुछ आय होती है, उसी से पेट पलता है। बच्चों का पेट पालने के लिए ही उन्हें रेबारियों को सौंप देते हैं। इस बात का दुख हमें भी होता है कि स्कूल जाने व खेलने-कूदने की उम्र में उन्हें काम करना पड़ता है।

 

शाहाबाद के उपखंड अधिकारी कैलाश गुर्जर का कहना है कि अगर कहीं रेबारियों द्वारा बच्चों को भेड़ों, ऊंटों को चराने का मामला सामने आता है तो इसकी मौके पर जाकर जांच करवाई जाएगी। साथ ही ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी जो बच्चों से भेड़े चराने का काम करवा रहे हैं।
-कैलाश गुर्जर ,उपखंड अधिकारी, शाहाबाद

Show More
neha soni
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned