आयकर और जीएसटी विभाग के पास है सभी का 360 डिग्री डेटा

दिवंगत सीए सदस्यों ( charted accounatants ) के परिवारों को आर्थिक सहायता ( financial assistance ) देने के लिए धनराशि एकत्रित करने के उद्देश्य से नॉलेज पूल सोसायटी के साथ मिलकर प्रोफेशनल एवं व्यापारियों के लिए 'प्रयास-एक पहलÓ वर्चूअल कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया। इस कॉन्फ्रेंस में देश-विदेश से 2000 से ज्यादा प्रोफेशनेल्स एवं व्यापारियों ने प्रोग्राम मैं रेजिस्ट्रेशन कराया और प्रोग्राम से जुड़े।

By: Narendra Kumar Solanki

Published: 15 Jun 2021, 08:49 AM IST

जयपुर। दिवंगत सीए सदस्यों के परिवारों को आर्थिक सहायता देने के लिए धनराशि एकत्रित करने के उद्देश्य से नॉलेज पूल सोसायटी के साथ मिलकर प्रोफेशनल एवं व्यापारियों के लिए 'प्रयास-एक पहलÓ वर्चूअल कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया। इस कॉन्फ्रेंस में देश-विदेश से 2000 से ज्यादा प्रोफेशनेल्स एवं व्यापारियों ने प्रोग्राम मैं रेजिस्ट्रेशन कराया और प्रोग्राम से जुड़े। कार्यक्रम का आयोजन तीन सत्रों में किया गया।
प्रथम सत्र में आयकर गुरु (सीए) डॉ. गिरीश आहूजा ने बताया की तेजी से बदलते हुए आयकर कानून के अनुसार अपनी वित्तीय आदतों मैं क्या क्या बदलाव करें, उन्होंने यें भी बताया की आर्टिफिशल इंटेलिजेन्स के इस जमाने में आयकर विभाग के पास आपकी सारी जानकारी है एवं आपने किसी भी तरह का एसा वित्तीय व्यवहार किया है, जिसकी जानकारी आयकर रिटर्न में नहीं दी है तो ध्यान रखें आयकर विभाग के पास आपसे सम्बंधित सभी जानकरियाँ है एवं आप बच नहीं पाएंगे। अत: अपने सभी वित्तीय व्यवहारों को रिटर्न में शामिल करें एवं पूरा कर चुकाएं।
दूसरे सत्र में सीए बिमल जैन ने बताया की इनपुट टैक्स क्रेडिट मनाही एवं बोगस बिलों से सम्बंधित मामलों मैं क्रेता या विक्रेता क्या करें एवं क्या सावधानियां रखें एवं इनसे सम्बंधित वैधानिक प्रावधान क्या है।
तीसरे सत्र में नॉलेज पूल के उपाध्यक्ष सीए शैलेंद्र अग्रवाल ने बताया कि परिवार को बांधे रखने के मूलमंत्र बताए तथा यह भी बताया की वर्तमान करोना काल में कैसे इस लॉकडाउन उपयोग परिवार को बांधने में पूरा समय देकर किया जा सकता है।

Narendra Kumar Solanki Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned