इन्वेस्को म्यूचुअल के जरिए करें विदेशी कंपनियों में निवेश

अगर आप ग्लोबल कंज्यूमर ( global consumer ) ट्रेंड और ई-कॉमर्स कंपनियों ( e-commerce companies ) के शेयरों में निवेश करना चाहते हैं तो इन्वेस्को म्यूचुअल फंड ( Mutual fund ) आपके लिए अवसर लाया है। इसने इन्वेस्को ग्लोबल कंज्यूमर ट्रेंड्स फंड ऑफ फंड को लॉन्च किया है।

By: Narendra Kumar Solanki

Published: 05 Dec 2020, 09:45 AM IST

जयपुर। अगर आप ग्लोबल कंज्यूमर ट्रेंड और ई-कॉमर्स कंपनियों के शेयरों में निवेश करना चाहते हैं तो इन्वेस्को म्यूचुअल फंड आपके लिए अवसर लाया है। इसने इन्वेस्को ग्लोबल कंज्यूमर ट्रेंड्स फंड ऑफ फंड को लॉन्च किया है। यह 4 दिसंबर को खुलेगा और 18 दिसंबर को बंद होगा। एनएफओ के दौरान कम से कम 1000 रुपए का निवेश किया जा सकता है। कंपनी के अनुसार यह एक ओपन एंडेड फंड ऑफ फंड स्कीम है, जो इन्वेस्को ग्लोबल कंज्यूमर ट्रेंड्स फंड में निवेश करेगी। यह फंड अपनी असेट का 95 से 100 फीसदी तक इन्वेस्को ग्लोबल कंज्यूमर ट्रेंड फंड में निवेश करेगा।
दरअसल, अब सब कुछ डिजिटल हो रहा है। ट्रैवल से लेकर खरीदी तक ऑनलाइन है। लोगों का फ्री समय ओटीटी पर बीत रहा है, जबकि फेसबुक और ट्विटर पर भी लोग काफी समय बिता रहे हैं। घर में लोग ऑन लाइन गेमिंग भी डिजिटल देख रहे हैं। डिजिटल लाइफ स्टाइल लोगों की आदत बन रही है। इन सभी की सेवाओं का हम भारत में उपयोग तो करते हैं, पर इनकी कंपनियों में हम भारत में निवेश नहीं कर सकते हैं। क्योंकि यह कंपनियां भारत में लिस्टेड नहीं हैं।
पूरी दुनिया में इस तरह की गेमिंग, ऑन लाइन, ई-कॉमर्स, इंटरटेनमेंट, इंटरनेट सेवा जैसी कंपनियां लोगों के घर-घर तक पहुंच चुकी हैं। इसमें प्रमुख कंपनियों की बात करें तो अमेजन, नेटफ्लिक्स, उबर, इलेक्ट्रॉनिक्स आर्टस आदि हैं। यह सभी टेक्नोलॉजी ड्रिवेन वाली कंपनियां हैं। यह ग्राहकों को ज्यादा डिजिटल बना रही हैं। विश्लेषकों के मुताबिक कोविड-19 जैसी स्थितियों ने लोगों के जीवन में डिजिटल में और बदलाव किया है। ग्लोबल कंपनियां अच्छा खासा रेवेन्यू हासिल करती हैं। ऐसे में इन कंपनियों में आगे चलकर और बेहतर बदलाव की उम्मीद है। नई जनरेशन पूरी तरह से डिजिटल हो रही है, जिससे ऐसी कंपनियों को लाभ होने की उम्मीद है। निवेशक इसमें एसआईपी और एकमुश्त निवेश कर सकते हैं।
कंपनी के सीईओ सौरभ नानावटी कहते हैं कि हम ढेर सारी ऐसी कंपनियों की सेवा का उपयोग करते हैं पर हम इनमें निवेश का फायदा नहीं ले पाते है, क्योंकि यह कंपनियां यहां लिस्टेड नहीं हैं। निवेशकों को भौगोलिक आधार पर डाइवर्सिफिकेशन करना चाहिए। एक फर्म के रूप में हम भारत में अपने निवेशकों के लिए निवेश की अलग रणनीति अपनाते हैं ताकि वे हमारे पैरेंट्स कंपनी के निवेश की क्षमता का लाभ उठा सकें।

Narendra Kumar Solanki Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned