अब होगा 28 जुलाई को आरम्भ होगा कूच

जब तक चना खरीद नहीं होगा
तब तक आन्दोलन चालू रहेगा

विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर चना खरीद के संबंध में संकल्प पारित कराने की मांग :
किसानों को 18 फीसदी ब्याज दिलाया जाने की भी मांग

By: Rakhi Hajela

Published: 24 Jul 2020, 04:54 PM IST


प्रदेश के किसानों ने चना खरीद मामले को लेकर दिल्ली कूच २७ जुलाई तक स्थगित करने का निर्णय लिया है। अब २८ जुलाई को एक बार फिर किसान, किसान महापंचायत के बैनर तले दिल्ली कूच करेंगे। महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट ने कहा कि अतिरिक्त जिला कलेक्टर राजेंद्र सिंह कविया के साथ हुई वार्ता के बाद आंदोलन को २७जुलाई तक स्थगित कर दिया गया है। जाट ने कहा कि किसान महापंचायत ने चना खरीद के मामले में विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर चना खरीद कुल उत्पादन में से 25 फीसदी को बढ़ा कर कम से कम 50 फीसदी किए जाने की मांग की है। महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट ने कहा कि चना खरीद का बकाया एवं आगे खरीद करने भुगतान एक सप्ताह में कराने तथा उसमें विलम्ब होने पर किसानों को 18 फीसदी ब्याज दिलाया जाने की भी मांग की भी सरकार से की गई है।
पुलिस कर ही शत्रुतापूर्ण व्यवहार
उन्होंने बताया कि किसानों को कल दूदू से 1 किलोमीटर चलने पर ही पुलिस प्रशासन ने रोकने का प्रयास किया तो किसानों ने यह संदेश भी दे दिया कि यदि उन्हें राष्ट्रीय राजमार्ग पर चलने से रोका गया तो वे अपने अधिकारों की रक्षा के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग की तीनों पंक्तियों में चलने को विवश होंगे। इसके बाद किसानों ने गिदानी में पड़ाव डालकर सभा का आयोजन किया था। सभा में प्रस्ताव पारित किया गया था कि किसानों के कूच को रोककर पुलिस प्रशासन किसानों के साथ शत्रुता पूर्ण व्यवहार किया है। जिससे किसानों में भारी रोष है लेकिन किसानों ने शांति.अहिंसा.सत्य के मार्ग पर चलने के कारण संयम बनाया हुआ है। बिना किसी उचित कारण के ही किसानों के ट्रैक्टरों से दूदू से दिल्ली कूच को ऐसे रोका जा रहा है जैसे किसान डकैती डालने दिल्ली जा रहे हैं। किसानों ने पुलिस प्रशासन के ऐसे कृत्य की निंदा की तथा आगाह किया कि शांति और अहिंसा को पुलिस प्रशासन किसानो की कमजोरी नहीं समझे।
उनका कहना था कि किसान अपनी खेती छोड़ कर स्वयं का डीजल जलाकर अपने अपने ट्रैक्टरों से चने के उचित दाम लेने के लिए दिल्ली जाना चाहते हैं। किसानों का आंदोलन शांति.अहिंसा.सत्य के आधार पर चल रहा है, इसलिए स्वानुशासन के आधार पर राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 8 तीसरी पंक्ति में ट्रैक्टर चलते हैं। किसानों को रोकना अन्यायकारी है, पुलिस प्रशासन अपना सामंती चाल चरित्र को सुधारना चाहिए।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned