scriptjain shwetambar shwetambar: Acharya Mahashraman in jaipur | अपनी आत्मा पर विजय प्राप्त कर लेना परम विजय—आचार्य महाश्रमण | Patrika News

अपनी आत्मा पर विजय प्राप्त कर लेना परम विजय—आचार्य महाश्रमण

जैन श्वेताम्बर तेरापंथ धर्मसंघ के वर्तमान अधिशास्ता और अहिंसा यात्रा के प्रणेता महातपस्वी आचार्य महाश्रमण शनिवार को अपनी धवल सेना के साथ शनिवार को जयपुर में मंगल प्रवेश किया।

जयपुर

Published: December 25, 2021 07:31:44 pm

जैन श्वेताम्बर तेरापंथ धर्मसंघ के वर्तमान अधिशास्ता और अहिंसा यात्रा के प्रणेता महातपस्वी आचार्य महाश्रमण शनिवार को अपनी धवल सेना के साथ शनिवार को जयपुर में मंगल प्रवेश किया। ससंघ का विहार टोंक रोड सांगानेर होते हुए पत्रिका गेट पहुंचा। यहां जुलूस के रूप में ससंघ का स्वागत समाजजनों ने किया। आचार्य की एक झलक पाने के लिए जनसमूह आतुर नजर आया। इसके बाद आचार्य जेएलएन मार्ग होते हुए मालवीय नगर अणुविभा केंद्र पहुंचें। इस दौरान जयपुर में पहले से स्वास्थ्य लाभ ले रहीं तेरापंथ धर्मसंघ की महाश्रमणी साध्वीप्रमुखा कनकप्रभाजी व अनेक साध्वियों ने आचार्यको वंदन-अभिनन्दन किया। आचार्य भवन के दूसरी ओर अपने दीक्षा प्रदाता मंत्री मुनि के स्मृति स्थल के निकट पहुंचें। वहां कुछ क्षण खड़े होकर स्मरण किया।
jain shwetambar shwetambar: Acharya Mahashraman in jaipur
आत्मा को जीतने वाला ही विजयी
आचार्य ने कहा कि दुनिया में जय और पराजय का प्रसंग आता है। युद्ध हो, लोकतांत्रिक प्रणाली में चुनाव में जय और पराजय होता है। आदमी किसी कार्य को पूर्ण कर ले तो जय और न हो पाए तो पराजय मानी जाती है। जंग में दस लाख योद्धाओं को जीत ले तो उसकी जय हो सकती है, परन्तु वह परम जय नहीं हो सकता। एक आत्मा को जो जीत लेता है अर्थात् जो अपनी आत्मा को जीत लेता है, वह आत्म विजेता बन सकता है। आदमी को अपनी आत्मा को जीतने का प्रयास करना चाहिए।
संस्मरणों को किया साझा
आचार्य ने प्रसंगवश कहा कि यह स्थान हमारा परिचित है। आचार्य महाप्रज्ञ का भी जयपुर से गहरा नाता रहा है। तेरापंथ धर्मसंघ के चतुर्थ आचार्य श्रीमज्जयाचार्य का जयपुर में दीक्षा और महाप्रयाण हुआ । गुरुदेव तुलसी का यहां चतुर्मास हुआ है। हमारे दीक्षा प्रदाता मंत्रीमुनि का विराजना और प्रयाण भी हुआ। साध्वियों ने पूज्यप्रवर की अभिवंदना में गीत का संगान किया। मुनि उदितकुमार, मुनि अनंतकुमार व मुनि पुलकितकुमार ने अपने हृदयोद्गार व्यक्त किए। साध्वी धन श्रीजी आदि साध्वियों ने गीत के माध्यम से पूज्यचरणों में अपनी प्रणति अर्पित की। स्थानीय तेरापंथी सभा के अध्यक्ष नरेश नाहटा, तेरापंथ युवक परिषद के मंत्री सुरेन्द्र नाहटा, तेरापंथ प्रोफेशनल फोरम के संदीप जैन मौजूद रहे। पूर्व डीजी राजीव दासोत ने कहा कि आचार्य महाश्रमणजी जैसे महान संत के दर्शन करने और प्रवचन सुनने का मौका गर्व की बात है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावPunjab Assembly Election: कांग्रेस ने जारी की 86 उम्मीदवारों की पहली सूची, चमकोर से चन्नी, अमृतसर पूर्व से सिद्धू मैदान मेंCorona Cases In India: देश में 24 घंटे में कोरोना के 2.68 लाख से ज्यादा केस आए सामने, जानिए क्या है मौत का आंकड़ाअब हर साल 16 जनवरी को मनाया जाएगा National Start-up Dayसीमित दायरे से निकल बड़ा अंतरिक्ष उद्यम बनने की होगी कोशिश: सोमनाथरेलवे का कंफर्म टिकट खोने पर घबरायें नहीं, इन नियमों का करें पालनTesla In India: हमारे यहां लगाएं अपनी इलेक्ट्रिक कार का प्लांट, इस राज्य ने Elon Musk को दिया खुला न्योतासपा को बड़ा झटका, कैराना से प्रत्याशी नाहिद हसन गिरफ्तार, कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.