बीसलपुर से जयुपर पेयजल सप्लाई को लेकर अब आई ये बड़ी खबर, 4 साल ही चलेगा मौजूदा सिस्टम

चार साल ही चलेगा मौजूदा पेयजल लाइन से काम
जुगाड़ से पेयजल सप्लाइ होगी 2024 तक
विभाग के अफसरों ने दिया तर्क—अभी चार साल की जरूरत के लिए 117 एमएलडी पानी बीसलपुर—जयपुर पेयजल लाइन से ही लेंगे पानी
अतिरिक्त पेयजल लाइन की जगह सूरजपुरा में बना रहे हैं 200 एमएलडी का फिल्टर प्लांट
बीसलपुर से जयपुर तक अतिरिक्त लाइन बिछाने का 1100 करोड़ का प्रस्ताव अटका अधरझूल में

By: PUNEET SHARMA

Updated: 16 Sep 2020, 08:19 AM IST


जयपुर।
जयपुर शहर का लगातार विस्तार हो रहा है और जलदाय विभाग बीलसपुर से पेयजल आपूर्ति के लिए धड़ाधड़ पेयजल योजना को बना रहा है। अभी विभाग मौजूदा बीसलपुर—जयपुर पेयजल लाइन से आगामी चार साल के लिए 117 एमएलडी पानी जुगाड़ के जरिए लेगा। इस जुगाड के लिए सूरजपुरा में 200 एमएलडी का फिल्टर प्लांट तैयार किया जा रहा है। लेकिन अफसर कह रहे हैं कि 2024 के बाद अगर मौजूदा सिस्टम पर दबाव बढ़ाया तो पूरा यह सिस्टम बुरी तरह से चरमरा सकता है। दूसरी ओर जलदाय बीसलपुर से जयपुर तक 90 किलोमीटर की अतिरिक्त लाइन बिछाने की 1100 करोड़ की परियोजना साढे तीन साल से बांध में पानी का कोटा तय करने की अधरझूल में फंस कर रह गई है।
117 एमएलडी पानी के लिए फिल्टर प्लांट का जुगाड़
जलदाय इंजियिनियरों का कहना है कि जिस तरह जयपुर शहर के बाहरी क्षेत्र का विकास हो रहा है उस हिसाब से विभाग पर पेयजल सप्लाई का दबाव भी बढ़ रहा है। विभाग के आनन—फानन में जयपुर शहर समेत जगतपुरा, खो नागोरियान,पृथ्वीराज नगर समेत अन्य कॉलोनियों के लिए दो नए प्रोजेक्ट बना दिए। बीसलपुर की मौजूदा लाइन से 200 एमएलडी अतिरिक्त् पानी लेने के लिए सूरजपुरा फिल्टर प्लांट स्थापित किया जा रहा है। जिससे 117 एमएलडी पानी की जरूतर पूरी की जाएगी। विभाग के अफसरों का कहना है कि यह व्यवस्था सिर्फ जुगाड़ से ज्यादा नहीं है। क्योंकि हर साल सैंकड़ों कॉलोनियां की नई बसावट हो रही है और पेयजल आपूर्ति की मांग दिनों दिन बढ़ रही है।
जुगाड़ भी चार साल तक ही चलेगा
इस प्रोजेक्ट से जुडे इंजिनियरों का कहना है कि मौजूदा सिस्टम से 200 एमएलडी अतिरिक्त् पानी लेने का जुगाड सिर्फ चार साल तक ही चल सकेगा। 2024 के बाद बीसलपुर सिस्टम से पेयजल आपूर्ति में परेशानी आ सकती है। क्योंकि अभी जहां पृथ्वीराज नगर को साढे चार लाख की आबादी के हिसाब से पानी दिया जाएगा वहीं फिर साढे सात लाख से ज्यादा की आबादी के लिए पानी की जरूरत होगी। इसी तरह से अन्य इलाकों का भी हाल होगा।
पानी के कोटे पर अटक गई अतिरिक्त पेयजल लाइन
जलदाय विभाग के अफसरों का कहना है कि नई पेयजल लाइन बिछाने की मंजूरी के लिए शहरी विकास मंत्रालय को संशोधित डीपीआर बना कर भेज दी है। लेकिन मंत्रालय की शर्त है कि 1100 करोड़ के इस प्रोजेक्ट को तभी जायका भेजा जाएगा जब बांध से 5.56 टीएमसी अतिरिक्त पानी का कोटा तय होगा।
—————————————————————————
2024 तक की जरूरतों के अनुसार तो हम मौजूदा सिस्टम से ही व्यवस्था कर रहे हैं। इसके बाद जयपुर शहर में पेयजल आपूर्ति के लिए मजबूत सिस्टम जरूरी है नहीं तो परेशानी आ सकती है। नई योजना के लिए संशोधित डीपीआर शहरी विकास मंत्रालय को भेज दी है।
देवराज सोलंकी
अतिरिक्त् मुख्य अभियंता
जयपुर शहर

PUNEET SHARMA Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned