पहले अनिका, अब एकता बनकर जासूसी

हनी ट्रेप : पाक एजेंट दिल्ली से खरीदते हैं फर्जी मोबाइल सिम, राजस्थान इंटेलिजेंस ने दो वर्ष पहले भी सिम बेचने वाले पकड़े थे, सेना की सूचना पर पकड़े जा रहे जासूस

 

By: Mukesh Sharma

Published: 02 Nov 2020, 12:30 AM IST

जयपुर. पाक महिला एजेंट द्वारा भारतीय सेना के जवान और अन्य लोगों को हनी ट्रेप में फंसाने के कई मामले सामने आ चुके हैं। दो वर्ष पहले जैसलमेर में सेना के जवान सोमवीर सिंह भी सोशल मीडिया के जरिए पाक एजेंट अनिका चौपड़ा नाम की युवती के चंगुल में फंस गया था। अनिका ने सोशल मीडिया पर जवान को इस कदर जाल में फंसा लिया था कि जवान ने भारतीय सेना से संबंधित कई सूचनाएं उसको उपलब्ध करवाई। राजस्थान इंटेलिजेंस ने जासूसी के मामले में सोमवीर को गिरफ्तार किया। विशेष बात यह है कि पाक आइएसआइ के लिए हनी ट्रेप का जाल बिछाने वाली महिला एजेंट भारतीय मोबाइल सिम का उपयोग करती है। आरोपी जवान सोमवीर को भी भारतीय मोबाइल सिम के जरिए हनी ट्रेप में फंसाया गया था। राजस्थान इंटेलिजेंस ने सोमवीर मामले में अनुसंधान के बाद पाक एजेंट को सिम उपलब्ध करवाने पर दिल्ली से दो लोगों को गिरफ्तार किया था। पाक एजेंट भारतीय लोगों के फर्जी दस्तावेज के आधार पर मोबाइल सिम लेते हैं, ताकि खूफिया एजेंसिया उन तक नहीं पहुंच सके। हाल ही में शनिवार को गिरफ्तार रामनिवास गौरा को पाक एजेंट युवती ने सोशल मीडिया पर एकता की युवती बनकर हनी ट्रेप में फंसाया। गिरफ्तार आरोपी गौरा से राजस्थान इंटेलिजेंस पूछताछ कर रही है।

दो दिन के रिमांड पर सौंपा

राजस्थान इंटेलिजेंस ने जासूसी के मामले में गिरफ्तार रामनिवास गौरा को रविवार को न्यायालय में पेश किया, जहां उसे दो दिन के रिमांड पर सौंपा है। एडीजी उमेश मिश्रा ने बताया कि आरोपी गौरा से पाक एजेंट को सोशल मीडिया के जरिए भेजी गई सूचना के संबंध में पूछताछ की जा रही है। आरोपी अब तक पाक हैण्डलिंग अफसरों से भारतीय सेना की सूचना देने के संबंध में कितनी धनराशि वसूल चुका, इस संबंध में भी अनुसंधान किया जा रहा है। एडीजी उमेश मिश्रा ने बताया कि सेना इंटेलिजेंस की सूचना पर आरोपी को पकड़ा गया है।

Mukesh Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned