6 महीने पहले बजी थी खुशियों की शहनाई, अब उजड़ गया मांग का सिंदूर, पत्नी को अभी तक नहीं जानकारी

6 महीने पहले बजी थी खुशियों की शहनाई, अब उजड़ गया मांग का सिंदूर, पत्नी को अभी तक नहीं जानकारी

Dinesh Saini | Updated: 17 Jul 2019, 12:58:52 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

Jaipur Accident : जयपुर के जेडीए ( JDA ) चौराहे पर तेज रफ्तार कार के शिकार ( Jaipur Accident ) हुए दो सगे भाई पुनीत और विवेक की पत्नियों को देर रात तक नहीं बताया गया था कि अब उनकी मांग के सिंदूर कभी घर नहीं लौटेंगे...

जयपुर। जयपुर के जेडीए ( JDA ) चौराहे पर तेज रफ्तार कार के शिकार ( jaipur accident ) हुए दो सगे भाई पुनीत और विवेक की पत्नियों को देर रात तक नहीं बताया गया था कि अब उनकी मांग के सिंदूर कभी घर नहीं लौटेंगे। बड़े भाई पुनीत की पत्नी धौलपुर में सरकारी टीचर है। वह वहां ही थी। उनका चार वर्ष का बेटा यहां पुनीत, दादा राजकुमार व दादी अनिता के पास ही था। छोटे भाई विवेक की छह माह पहले ही शादी हुई थी। दोनों भाई नेचुरल मेडिसिन का काम करते थे।


चार साल का बेटा पूछता रहा पापा कब आएंगे ( Jaipur road accident )
मंगलवार शाम कनौडिया कॉलेज (कॉलेज में विवेक की लैब बताई गई है) से जामडोली स्थित मणिरत्ननगर स्थित घर बाइक पर जा रहे थे। तभी कार चालक वीरेन्द्र ने उनकी जिंदगी छीन ली। घर पर पिता पुनीत का इंतजार कर रहा चार वर्षीय गौरांश बार-बार पूछ रहा था कि पापा कब आएंगे। गौरांश के अलावा घर पर मृतकों की मां अनिता और विवेक उर्फ सुमित की पत्नी ही थीं। उन्हें देर रात को इतना ही बताया गया कि दोनों भाइयों का एक्सिडेंट हो गया है। अस्पताल में इलाज चल रहा है।

 

 

Jaipur Road Accident

बड़े भाई की पत्नी को भी जरूरी काम की कहकर जयपुर बुलाया ( road accident in jaipur )
आस-पास और कुछ रिश्तेदार महिलाएं उन्हें ढाढस बंधा रही थी। कॉलोनी में अन्य लोग करीब सौ मीटर दूर ही खड़े थे। रात हो जाने पर शव पोस्टमार्टम के बाद घर नहीं ले जाए गए। दोनों के शव बुधवार सुबह घर ले जाए जाएंगे। धौलपुर से पुनीत की पत्नी पिंकी को भी जरूरी काम होने की कहकर जयपुर बुलाया गया। मुर्दाघर पर पिता राजकुमार का रो-रोककर बुरा हाल था।

 

 

Jaipur Road Accident

यह कुरूप चेहरा भी आया सामने
जेडीए चौराहा राजस्थान विश्वविद्यालय ( rajasthan university ) से त्रिमूर्ति की तरफ जाने वाली ट्रैफिक बत्ती लाल हो गई थी। वाहन चालक वहां रुक गए। हादसे का शिकार पुनीत और विवेक भी लालबत्ती में रुक गए थे। तभी पीछे से रफ्तार में कार लेकर आए वीरेन्द्र ने टक्कर मार दी। चौराहे पर चीख-पुकार मच गई। लोग उछलकर इधर-उधर जा गिरे। एक स्कूटी सवार युवती भी दूर जा गिरी। सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में यह दृश्य कैद हो गया। लेकिन इसके बाद फुटेज में जो नजर आया, उसे देखकर यही लगता है कि भागदौड़ भरी जिंदगी में मानवता कहीं खो रही है। सडक़ पर लहूलुहान पड़े लोगों को देखते हुए चालक उनके नजदीक और बीच में वाहन निकालकर आगे बढ़ते जा रहे थे। इन वाहन चालकों के पास मानो इतना समय भी नहीं था कि सडक़ पर पड़े लोगों को अस्पताल पहुंचाने की व्यवस्था करते।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned