scriptJAIPUR CITY FOUNDATION DAY 294 | 294 साल में 'जैपर' से यूं बन गया जयपुर | Patrika News

294 साल में 'जैपर' से यूं बन गया जयपुर

विश्वविरासत जयपुर शहर (Jaipur City) 18 नवंबर को अपना 294वां स्थापना दिवस (Jaipur Foundation Day) मना रहा है। जयपुर शहर की स्थापना 1727 में महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय (Sawai Jai Singh II) ने की, समय के साथ शहर करवट भी लेता गया। हेरिटेज की बेजोड़ कलाकृति का जीवंत उदाहरण 'जैपर' विश्व का पहला सुनियोजित शहर है, जिसका पहले नक्शा बनाया गया और बाद में बसावट की गई। 1875 में सवाई रामसिंह ने जयपुर का गुलाबी रंग करवाया।

जयपुर

Published: November 18, 2021 03:59:55 pm

294 साल में 'जैपर' से यूं बन गया जयपुर
— जयपुर का 294वां स्थापना दिवस : समय के साथ करवट लेता जयपुर

जयपुर। विश्वविरासत जयपुर शहर (Jaipur City) 18 नवंबर को अपना 294वां स्थापना दिवस (Jaipur Foundation Day) मना रहा है। जयपुर शहर की स्थापना 1727 में महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय (Sawai Jai Singh II) ने की, समय के साथ शहर करवट भी लेता गया। हेरिटेज की बेजोड़ कलाकृति का जीवंत उदाहरण 'जैपर' विश्व का पहला सुनियोजित शहर है, जिसका पहले नक्शा बनाया गया और बाद में बसावट की गई। 1875 में सवाई रामसिंह ने जयपुर का गुलाबी रंग करवाया। इसके बाद देश—दुनिया में जयपुर गुलाबी शहर के नाम से विख्यात हुआ। जयपुर का सफर यहीं नहीं थमा, आजादी के साथ ही शहर का विस्तार हुआ, जयपुर का परकोटे से बाहर भी विकास होता गया। 5 फरवरी 2020 को जयपुर विश्व धरोहर शहर बना। यूनेस्को महानिदेशक ऑड्रे अजोले ने वल्र्ड हेरिटेज सिटी का प्रमाण पत्र दिया। 23 सितंबर 2020 को जयपुर को भूमिगत मेट्रो की सौगात भी मिल गई। वहीं जयपुर में हेरिटेज नगर निगम और जयपुर ग्रेटर नगर निगम बने। 10 नवंबर 2020 को शहर को दो महापौर मिली। शहर 250 वार्डों में बंट गया। शहर परकोटे से बाहर निकलकर चारोंओर करीब 30 से 50 किलोमीटर के दायरे में फैल गया है।
294 साल में 'जैपुर' से यूं बन गया जयपुर
294 साल में 'जैपुर' से यूं बन गया जयपुर
जयपुर फाउंडेशन के संस्थापक अध्यक्ष सियाशरण लश्करी ने बताया कि जयपुर एक ऐसा शहर है, जिसे बसाया तो सवाई जयसिंह द्वितीय ने था, लेकिन जयपुर शहर की बसावट की कल्पना 150 साल पहले ही मिर्जा राजा मानसिंह प्रथम ने कर ली थी। नवग्रहों के अनुरूप यहां नौ चौकड़ियां बसाई गई है। अष्टसिद्धि व नौ निधि को साकार करने के लिए दो चौकड़ियों को मिलाकर चौकड़ी सरद बनाई गई।
ज्योतिषाचार्य चन्द्रशेखर शर्मा ने बताया कि जयपुर वास्तुकला की दृष्टि से बसाया गया शहर है। इसका आर्किटेक्चर विद्याधर चक्रवर्ती ने तैयार किया। जयपुर को बसाने वाले सवाई जयसिंह द्वितीय खुद खगोलशास्त्र के बड़े विद्वान रहे। जयपुर को ज्योतिष और संस्कृति की नगरी के नाम से भी जाना जाता है। यहां का जंतर—मंतर इसका उदाहरण है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Antrix-Devas deal पर बोली निर्मला सीतारमण, यूपीए सरकार की नाक के नीचे हुआ देश की सुरक्षा से खिलवाड़Delhi Riots: दिलबर नेगी हत्याकांड में हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, 6 आरोपियों को दी जमानतDelhi: 26 जनवरी पर बड़े आतंकी हमले का खतरा, IB ने जारी किया अलर्टUP Election 2022 : टिकट कटने पर फूट-फूटकर रोये वरिष्ठ नेता ने छोड़ी भाजपा, बोले- सीएम योगी भी जल्द किनारे लगेंगेपंजाबः अवैध खनन मामले में ईडी के ताबड़तोड़ छापे, सीएम चन्नी के भतीजे के ठिकानों पर दबिशफिल्म लुकाछुपी-2 की शूटिंग पर बवाल, परीक्षा स्थल पर लगा दिया सेट, स्टूडेंट्स ने किया हंगामासोशल मीडिया पर छाया कमलनाथ का KGF अवतार, देखें वीडियोIPL 2022 के लिए लखनऊ टीम ने चुने 3 खिलाड़ी, KL Rahul पर हुई पैसों की बरसात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.