आसाराम से पहले जयपुर कोर्ट ने नाबालिग से दुष्कर्म के मामले में दी सबसे बड़ी सजा

आसाराम से पहले जयपुर कोर्ट ने नाबालिग से दुष्कर्म के मामले में दी सबसे बड़ी सजा

By: KAMLESH AGARWAL

Published: 25 Apr 2018, 12:42 PM IST

 

जयपुर।

आसाराम को जोधपुर की कोर्ट ने नाबालिग के यौन शोषण एवं दुष्कर्म मामले में दोषी करार दिया है लेकिन जयपुर की विशेष न्यायालय पॉस्को कोर्ट ने आरोपी को आजीवन कारावास के साथ ही पचास हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है।
न्यायालय विशेष न्यायाधीश (पोस्को एक्ट) जयपुर के न्यायाधीश श्रीमती अलका बंसल ने नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी विजय कुमार को आजीवन कारावास और ₹50000 जुर्माने की सजा का एलान किया है। लोक अभियोजक ने बताया कि आरोपी विजय कुमार 5 वर्षीय बालिका को घर के बाहर से चीज दिलाने का लालच देकर उठा ले गया। विजय बालिका को लेकर जयसिंहपुरा मोहाना रोड के नजदीक जंगल में पहुंच गया। जहां पर उसके साथ दुष्कर्म किया। मामले में परिवादिया ने 31.10 .2013 को करणी विहार थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि वह अपने काम से बाहर गई हुई थी और घर पर दोनों बच्चे अकेले थे। इसी दौरान उसको पड़ोसी ने बताया कि उनकी बच्ची को कोई उठा ले गया है।
पुलिस की सजगता से पकड़ा गया आरोपी
मामला दर्ज होने के बाद पुलिस ने जांच शुरू की और पूछताछ में सामने आया कि आखरी बार बच्ची को विजय के साथ देखने की बात सामने आई। पुलिस विजय को पकड़कर पूछताछ की तो सामने आया कि पूरे विजय ने बच्ची से रेप किया है। इसके बाद सबूत और गवाहों के साथ विजय को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया।

दस्तावेज एवं गवाहों से जुड़ी कड़ी

कोर्ट में करणी विहार थाना पुलिस ने गवाहों के साथ फोरेंसिक टीम की ओर से जुटाए साक्ष्य भी पेश किए। पुलिस ने मामले में गवाहों को पेश और बयान दर्ज करवाने तक मोनेटरिंग की। पुलिस के साथ ही लोक अभियोजक ने भी मामले में ट्रायल के दौरान सभी गवाहों के बयानों के साथ ही मामले की कड़ी से कड़ी जोड़ी जिसकी वजह से आरोपी को कोर्ट ने सख्य सजा सुनाई है।

KAMLESH AGARWAL Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned