राजस्थान के सबसे बड़े कोविड़ अस्पताल आरयूएचएस में बैड दिलाने के नाम पर दो लाख की रिश्वत मांगी

एसीबी ने खोला, प्रदेश के सबसे बड़े कोविड़ अस्पताल आरयूएचएस का काला सच : पैसों के बदले मिल रहे बैड, आइसीयू में महिला मरीज को बैड दिलाने की एवज में 2 लाख रुपए रिश्वत मांगी, 1.30 लाख में सौदा तय हुआ, आइसीयू के चिकित्सक ने 3 मई को बैड देते ही 50 हजार वसूले, मेट्रो मास हॉस्पिटल के (दलाल) नर्सिंगकर्मी ने 45 हजार रुपए लिए, एसीबी ने दलाल को शेष राशि लेते पकड़ा, शनिवार को महिला मरीज की मौत हुई

By: pushpendra shekhawat

Published: 08 May 2021, 10:16 PM IST

जयपुर। राजस्थान के सबसे बड़े सरकारी कोविड़ हॉस्पिटल आरयूएचएस में हाउसफूल का बोर्ड लगाकर पीछे से मरीजों को बैड बेचे जा रहे हैं। जबकि प्रदेश में ऑक्सीजन और इलाज के अभाव में कोविड़ मरीज और परिजन में हाहाकार मचा है।

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने शनिवार को इसका खुलासा करते हुए मेट्रो मास हॉस्पिटल के (दलाल) नर्सिंगकर्मी अशोक कुमार को शनिवार रात को 23 हजार रुपए लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया। आरोपी दलाल आरयूएचएस हॉस्पिटल के दो डॉक्टरों के जरिए जनरल वार्ड में भर्ती 53 वर्षीय महिला मरीज के परिजन को आईसीयू में बैड दिलाने की एवज में 2 लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी। बाद में सौदा 1.30 लाख रुपए में किया।

एसीबी के डीजी बीएल सोनी ने बताया कि गिरफ्तार दलाल और पीडि़त ने बताया कि गंभीर महिला मरीज को 3 मई को आईसीयू में बैड देते ही वहां उपस्थित डॉक्टर मनीष ने 50 हजार रुपए ले लिए। जबकि 20 हजार और 23 हजार रुपए दो किस्तों में दलाल ने ले लिए थे। शुक्रवार को धौलपुर निवासी पीडि़त ने एसीबी में शिकायत की और बताया कि वह आरयूएचएस के डॉक्टर और दलाल को 1.30 लाख रुपए में सौदा तय कर आईसीयू में बैड दिलाने की एवज में 95 हजार रुपए दे चुका है।

हालांकि एसीबी के पास परिवादी पहुंचा उससे पहले डॉक्टर को रुपए देकर आने की बात कही है। एसीबी डॉ. मनीष कौन है और आरयूएचएस में कार्यरत है या नहीं, इसकी भी जांच कर रही है। जबकि बैड दिलाने के मामले में एक अन्य डॉक्टर की भूमिका की भी जांच कर रही है।

Show More
pushpendra shekhawat Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned