गलता में 517 साल बाद पहली बार लोगों के प्रवेश पर रोक

उत्तर भारत की प्रमुख पीठ गलता तीर्थ (galata teerth) में 517 साल में पहली बार लोगों के लिए प्रवेश बंद (People No Entry) किया गया। गलता तीर्थ में सुबह से ही लोगों का प्रवेश बंद कर दिया गया। गलता स्नान को पहुंचे कई लोग बाहर से वापस लौट आए।

गलता में 517 साल बाद पहली बार लोगों के प्रवेश पर रोक
देवस्थान विभाग के मंदिर भी रहे बंद

जयपुर। उत्तर भारत की प्रमुख पीठ गलता तीर्थ (galata teerth) में 517 साल में पहली बार लोगों के लिए प्रवेश बंद (People No Entry) किया गया। गलता तीर्थ में सुबह से ही लोगों का प्रवेश बंद कर दिया गया। गलता स्नान को पहुंचे कई लोग बाहर से वापस लौट आए।

गलतापीठाधीश्वर अवधोशाचार्य महाराज ने बताया कि गलताजी में लोगों का प्रवेश 6 अप्रेल तक बंद रहेगा। गलता कुंडों में स्नान आदि बंद रहेगा। वहीं गलता ठिकाने के सभी मंदिर दर्शनार्थियों के लिए बंद है। शहर में स्थित गलता ठिकाने के करीब आधा दर्जन मंदिर बंद रहे।

देवस्थान विभाग के मंदिरों में हुई आरती

जयपुर में स्थित देवस्थान विभाग के करीब तीन दर्जन से अधिक मंदिरों में लोगों का प्रवेश बंद रहा। मंदिर में सेवागीर और पुजारियों ने सिर्फ आरती की, आरती के बाद मंदिर के पट बंद कर दिए गए। देवस्थान विभाग के मंदिर 31 मार्च तक बंद रहेेंगे। देवस्थान विभाग के सहायक आयुक्त प्रथम ने बताया कि जयपुर और दौसा जिले में स्थित विभाग के राजकीय प्रत्यक्ष प्रभार, राजकीय आत्मनिर्भर व सुपुर्दगी श्रेणी से सभी मंदिर आरती के समय को छोडकर बंद रहेंगे।

Girraj Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned