गोविंददेवजी को कराया जलविहार

ज्येष्ठ कृष्ण अमावस्या पर गुरुवार को शहर के मंदिरों में विशेष झांकी सजाई गई। शहर के गोविंददेवजी मंदिर (Govinddevji Temple) के साथ अन्य मंदिरों में जलयात्रा झांकी सजाई गई। ठाकुरजी को जलविहार कराया गया। इस मौके पर ऋतु फलों का भोग लगाया गया। आराध्य देव गोविंद देवजी मंदिर में ठाकुरजी को धवल धोती दुपट्टा धारण करा राधाजी संग सुगंधित जल के फव्वारे के बीच जलयात्रा कराई गई।

By: Girraj Sharma

Published: 10 Jun 2021, 09:17 PM IST

गोविंददेवजी को कराया जलविहार
- शहर के मंदिरों में सजी जलविहार झांकी
- ठाकुरजी को लगाया ऋतु फलों का भोग

जयपुर। ज्येष्ठ कृष्ण अमावस्या पर गुरुवार को शहर के मंदिरों में विशेष झांकी सजाई गई। शहर के गोविंददेवजी मंदिर (Govinddevji Temple) के साथ अन्य मंदिरों में जलयात्रा झांकी सजाई गई। ठाकुरजी को जलविहार कराया गया। इस मौके पर ऋतु फलों का भोग लगाया गया।

आराध्य देव गोविंद देवजी मंदिर में ठाकुरजी को धवल धोती दुपट्टा धारण करा राधाजी संग सुगंधित जल के फव्वारे के बीच जलयात्रा कराई गई। इस दौरान ठाकुरजी को ऋतु फलों का भोग लगाया गया। वहीं कलियों का शृंगार किया गया। मंदिर प्रवक्ता मानस गोस्वामी ने बताया कि श्रद्धालुओं के लिए मंदिर के पट बंद होने के कारण भक्तों ने ऑनलाइन दर्शन किए।

पुरानी बस्ती स्थित राधा गोपीनाथ मंदिर में भी जलविहार झांकी सजाई गई। राधा गोपीनाथजी को फव्वारों के बीच जलविहार कराया गया, इस मौके पर आम, तरबूज, खरबूज, रबड़ी आदि का भोग लगाया गया। पानो का दरीबा सुभाष चौक स्थित सरस निकुंज में शुक संप्रदाय पीठाधीश्वर अलबेली माधुरी शरण के सानिध्य में विशेष झांकी सजाई गई। रामगंज बाजार स्थित मंदिरश्री लाडलीजी में जलविहार झांकी सजाई गई। ठाकुरजी को लीची का रस, बील का रस, आमरस, रबड़ी आदि का भोग लगाया गया।

Girraj Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned