महापौर सौम्या गुर्जर की अधिकारियों को दो टूक, ना खाऊंगी ना खाने दूंगी

नगर निगम ग्रेटर की महापौर सौम्या गुर्जर ने शुक्रवार को पदभार संभालने के साथ ही अपनी इरादे स्पष्ट कर दिए है। गुर्जर ने सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को दो टूक कहा है कि ना खाऊंगी ना खाने दूंगी। नगर निगम में जो अब तक चल रहा था वो अब नहीं चलेगा। अब गरीब की सुनी जाएगी और अवैध काम करने वाले सक्षम लोगों का निगम साथ नहीं देगा।

By: Umesh Sharma

Published: 13 Nov 2020, 06:09 PM IST

जयपुर।

नगर निगम ग्रेटर की महापौर सौम्या गुर्जर ने शुक्रवार को पदभार संभालने के साथ ही अपनी इरादे स्पष्ट कर दिए है। गुर्जर ने सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को दो टूक कहा है कि ना खाऊंगी ना खाने दूंगी। नगर निगम में जो अब तक चल रहा था वो अब नहीं चलेगा। अब गरीब की सुनी जाएगी और अवैध काम करने वाले सक्षम लोगों का निगम साथ नहीं देगा।

बृज और हल्दीघाटी की माटी लेकर अपनी सीट पर बैठी सौम्या ने कहा कि ये पवित्र मिट्टी मुझे हमेशा इस बात का अहसास कराएगी कि जयपुर को ग्रेट बनाना हैं। वैदिक मंत्रोच्चार के बीच सौम्या अपनी कुर्सी पर बैठी और कहा कि चुनौतियां सभी के सामने होती है। चुनौतियों का डटकर मुकाबला करेंगे और डरेंगे नहीं। दो दिन में शहर में जो गड़बड़ियां पाई गई हैं वो अब नहीं रहेंगी। लोग कहते हैं भ्रष्टाचार को खत्म करने की केवल बात होती है, लेकिन मेरे पति ने करौली नगर परिषद के अंदर ना खाऊंगा ना खाने दूंगा के आधार पर काम किया। उसी संकल्प पर काम करूंगी। गरीबों का साथ देंगे। बड़ी एपोच वालों का अवैध काम नहीं होने देंगे, उन्हें कोई सपोर्ट भी नहीं करेंगे। गुर्जर ने कहा कि जेडीए और आवासन मंडल के साथ मिलकर हम काम करेंगे और उनसे बकाया राशि मांगेंगे। केंद्र की योजनाओं से पैसा लाएंगे। सभी पार्षदों को साथ लेकर काम करेंगे। जयपुर को स्वच्छ और सुरक्षित बनाएंगे। निगम को ग्रेट करने के लिए जो एफर्ट करने है। वो करेंगे। उनके पदभार कार्यक्रम में शहर अध्यक्ष राघव शर्मा, उप महापौर पुनीत कर्णावट, पूर्व विधायक कैलाश वर्मा सहित अनेक लोग मौजूद रहे। गुर्जर ने सबसे पहले पूजा—अर्चना की, उसके बाद कुर्सी पर बैठीं।

महापौर मैं बनी हूं, पति का कोई हस्तक्षेप नहीं होगा

गुर्जर ने कहा कि महापौर मैं बनी हूं तो मैं ही नगर निगम में काम करूंगी, मेरे पति का कोई हस्तक्षेप नहीं रहेगा। मेरे पति ने पूर्ण स्वतंत्रता के साथ मुझे भेजा है और कहा है कि ऐसा काम करके दिखाओ ताकि लोग तुम्हार सत्कार करें।

सरकार पर भेदभाव के लगाए आरोप

गुर्जर ने राजस्थान सरकार भेदभाव के आरोप लगाए। उन्होंने ग्रेटर का इलाका ज्यादा होने के बावजूद कम सफाई कर्मचारी उपलब्ध कराने पर निशाना साधा और कहा कि ग्रेटर में 3 हजार और हैरिटेज में 4 हजार कर्मचारी दिए। क्षेत्रफल ज्यादा हमें ज्यादा कर्मचारी मिलने चाहिए ना कि हैरिटेज को। उन्होंने मांग की कि राजस्थान सरकार नई भर्ती करे।

अधिकारियों का रवैया ढुलमुल, इसलिए राजस्व घटा

गुर्जर ने अधिकारियों को भी नहीं बख्शा और कहा कि आर्थिक स्थिति बहुत खराब है। अधिकारियों की ढुलमुल नीति की वजह से हम यूडी टैक्स नहीं वसूल कर पा रहे हैं। अधिकारी इस तरह का रवैया छोड़ दें और राजस्व वसूली में तेजी लाएं। नया टैक्स लगाने के प्रश्न पर उन्होंने कहा कि अगर यूडी टैक्स की पूरी वसूली हो जाए तो निगम को राजस्व की कोई कमी नहीं है।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned