scriptJAIPUR JDA MIYAWAKI METHOD PLANTATION | Jaipur JDA मियावाकी पद्धति से सुधारेंगे राजधानी का पर्यावरण | Patrika News

Jaipur JDA मियावाकी पद्धति से सुधारेंगे राजधानी का पर्यावरण

राजधानी के पर्यावरण को सुधारने के लिए अब जापान की मियावाकी पद्धति (Miyawaki Method Plantation) का सहारा लिया जाएगा। जेडीए (Jaipur JDA) शहर के प्रमुख पार्कों व अन्य जगहों पर मियावाकी पद्धति (miyawaki method) से करीब 1 लाख 20 हजार पौधे लगाकर सघन जंगल विकसित करेगा। इसकी शुरुआत रविवार को यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने जवाहर सर्किल पर पौधा लगाकर की।

जयपुर

Published: October 17, 2021 03:26:27 pm

Jaipur JDA मियावाकी पद्धति से सुधारेंगे राजधानी का पर्यावरण
— जेडीए मियावाकी पद्धति से लगाएगा 1.20 लाख पौधे, यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने पौधा लगा की शुरुआत

जयपुर। राजधानी के पर्यावरण को सुधारने के लिए अब जापान की मियावाकी पद्धति (Miyawaki Method Plantation) का सहारा लिया जाएगा। जेडीए (Jaipur JDA) शहर के प्रमुख पार्कों व अन्य जगहों पर मियावाकी पद्धति (miyawaki method) से करीब 1 लाख 20 हजार पौधे लगाकर सघन जंगल विकसित करेगा। इसकी शुरुआत रविवार को यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने जवाहर सर्किल पर पौधा लगाकर की। इस दौरान यूडीएच प्रमुख सचिव कुंजीलाल मीणा और जेडीसी गौरव गोयल सहित कई अधिकारी मौजूद रहे। इसके साथ ही यूडीएच मंत्री ने सड़क किनारे पेड़ों के ग्रेटिंग्स लगाने का काम भी शुरू किया, जिससे पेड़ों में पानी आसानी से जड़ों तक पहुंच सके।
Jaipur JDA मियावाकी पद्धति से सुधारेंगे राजधानी का पर्यावरण
Jaipur JDA मियावाकी पद्धति से सुधारेंगे राजधानी का पर्यावरण
जयपुर शहर में आबादी के विस्तार के साथ बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए जेडीए ने मियावाकी पद्धति से 10 स्थानों पर सघन पौधारोपण कर करने की तैयारी की है। इससे जयपुर शहर में प्रमुख पार्कों और सरकारी जमीन पर ऑक्सीजोन विकसित किया जा सकेगा। यूडीएच मंत्र धारीवाल ने जवाहर सर्किल पर जेडीए की ओर किए गए सघन पौधारोपण का भी निरीक्षण किया।
जेडीए यहां करेगा मियावाकी पद्धति से पौधारोपण
— तरूछाया नगर के वुडलैंड पार्क की पांच हजार वर्ग मीटर जमीन पर 20 हजार पौधे
— गजधरपुरा एसटीपी प्लांट पर 2000 वर्ग मीटर में 8 हजार पौधे
— स्वर्ण जयंति पार्क की 5000 वर्ग मीटर जमीन पर 20 हजार पौधे
— सेन्ट्रल पार्क में 4500 वर्ग मीटर जमीन पर 18 हजार पौधे
— बगरू के मोहन लाल सुखाड़िया नगर में 1500 वर्ग मीटर में 6 हजार पौधे
— जवाहर सर्किल की 500 वर्ग मीटर में 2 हजार पौधे
— रामनिवास बाग की 500 वर्ग मीटर में 2 हजार पौधे
— हीरालाल शास्त्री नगर की 5000 वर्ग मीटर जमीन पर 20 हजार पौधे
— हाथोज कालवाड़ एसटीपी प्लांट की 2000 वर्ग मीटर जमीन पर 8 हजार पौधे
— रलावता एसटीपी प्लांट की 4000 वर्ग मीटर जमीन पर 16 हजार पौधे
यह है मियावाकी पद्धति
जेडीए अधिकारियों की मानें तो मियावाकी पद्धति का आविष्कार मियावाकी नामक जापान के एक वनस्पतिशास्त्री ने किया था। इसमें छोटे-छोटे स्थानों पर छोटे-छोटे पौधे लगाए जाते है, इससे साधारण पौधों की तुलना में दस गुनी तेजी से पौधा बढ़ता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडPost Office FD Scheme: डाकघर की इस स्कीम में केवल एक साल के लिए करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.