मानवता की मिसाल कायम कर मरते-मरते जयपुर का सिर ऊंचा कर गया रुपेश, चार लोगों को दे गया नई जिंदगी

हार्ट, लीवर और किडनी के डोनर के लिए इंतजार कर रहे मरीजों के लिये अब जिंदगी की नई राह खुल गई है...

By: dinesh

Published: 09 Dec 2017, 06:47 PM IST

जयपुर। सडक़ हादसे में गम्भीर घायल हुए जयपुर के रूपेश ने दुनिया को अलविदा कहने से पहले उन लोगों को नया जीवन दे दिया जो जीने के लिए जूझ रहे थे। अपने अंगदान कर रूपेश ने मानवता की मिसाल कायम कर जयपुर का सिर ऊंचा कर दिया है।

 

बस्सी के पास दुर्घटना में हो गए थे घायल

3 दिसंबर को जयपुर के ढहर का बालाजी इलाके में रहने वाले 40 वर्षीय रुपेश शर्मा बस्सी के पास दुर्घटना में घायल हो गए थे। रुपेश अपने रिश्तेदार प्रवीन के साथ अपनी कार से बस्सी किसी काम से जा रहे थे। रास्ते में दूसरी ओर से आ रही कार डिवाइडर से टकरा कर असंतुलित हो गयी और आकर रुपेश के कार से टकरा गयी थी। रुपेश को सिर पर गहरी चोट लगी थी। दुर्घटना में गंभीर रुप से घायल रुपेश को जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल के ट्रॉमा वार्ड में भर्ती करवाया गया था। इस हादसा में रुपेश का ब्रेनडैड हो गया था।

 

परिजनों ने लिया अंग दान करने का बड़ा फैसला
जयपुर के लिये काम कर रही संस्था मोहन फाउंडेशन की समझाईश पर परिजनों ने अपनी सहमती देकर रुपेश के सभी अंगो को दान करने का बड़ा फैसला लिया। परिजनों के इस फैसले से अब 4 जिंदगियां रोशन हो सकेगी। हार्ट, लीवर और किडनी के डोनर के लिए इंतजार कर रहे मरीजों के लिये अब जिंदगी की नई राह खुल गई है।

 

दिल्ली के निम्स और मैक्स अस्पताल में होगा ट्रांसप्लांट
डॉक्टर्स के अनुसार, डोनर के अंगों के टेस्ट हो चुके हैं और टैस्ट की रिपोर्ट के आधार पर ही अंगों को एसएमएस, निम्स और दिल्ली के मैक्स अस्पताल में ट्रांसप्लांट किया जायेगा। रुपेश की दोनों किडनी एसएमएस और लीवर निम्स हास्पिटल और हार्ट दिल्ली के मैक्स हास्पिटल में प्रत्यारोपित किया जायेगा। निम्स हास्पिटल और दिल्ली के मैक्स हास्पिटल के लिये प्रशासन ने ग्रीन कोरिडोर बनाने के सभी तैयारियां कर ली है।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned