बीवीजी पर फिर मौन हुआ नगर निगम प्रशासन, सख्ती के बाद भी नहीं सुधरे हालात

डोर टू डोर कचरा संग्रहण कर रही बीवीजी कंपनी पर एक बार फिर नगर निगम प्रशासन मौन नजर आ रहा है। साधारण सभा में पार्षदों के विरोध और उसके बाद ग्रेटर नगर निगम आयुक्त यज्ञमित्र सिंह देव के निर्देश के बाद भी कंपनी के काम में सुधार नहीं हो सका है, जिसके चलते शहर में हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं, लेकिन निगम प्रशासन मौन नजर आ रहा है।

By: Umesh Sharma

Published: 21 Feb 2021, 05:21 PM IST

जयपुर।

डोर टू डोर कचरा संग्रहण कर रही बीवीजी कंपनी पर एक बार फिर नगर निगम प्रशासन मौन नजर आ रहा है। साधारण सभा में पार्षदों के विरोध और उसके बाद ग्रेटर नगर निगम आयुक्त यज्ञमित्र सिंह देव के निर्देश के बाद भी कंपनी के काम में सुधार नहीं हो सका है, जिसके चलते शहर में हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं, लेकिन निगम प्रशासन मौन नजर आ रहा है।

यही हालत नगर निगम हैरिटेज में भी नजर आ रही है। यहां भी साधारण सभा की बैठक में हर वार्ड में एक-एक हूपर उपलब्ध कराने का फैसला हो चुका है। मगर अभी तक बैठक के मिनिट्स जारी नहीं होने के कारण यह काम भी अटका पड़ा है। जिसके कारण चारदीवारी में भी सफाई व्यवस्था बदतर हो गई है। गलियों में कचरे के ढेर लगे हैं और निगम मूकदर्शक बनकर बैठा है।

कंपनी ने नहीं दिया सफाई का खाका

साधारण सभा की बैठक के बाद ग्रेटर निगम आयुक्त यज्ञमित्र सिंह देव ने बीवीजी कंपनी के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की थी। इस बैठक में कंपनी का दो दिन में सफाई का खाका पेश करने के निर्देश दिए थे, लेकिन कंपनी ने अभी तक सफाई का कोई प्लान निगम को नहीं सौंपा है। अभी तक ग्रेटर निगम में सांगानेर विधानसभा के कुछ वार्डों में निगम अपने स्तर पर डोर टू डोर कंचरा संग्रहण कर रहा है।

मिनिट्स में उलझ गए हूपर

जयपुर हैरिटेज नगर निगम की साधारण सभा की बैठक में सभी वार्डों में एक- एक हूपर देने का फैसला किया गया था, लेकिन अभी तक मिनिट्स जारी नहीं होने के कारण हूपर उपलब्ध नहीं करवाए जा सके हैं। यह बैठक 9 फरवरी को हुई थी। शहर में डोर टू डोर कचरा संग्रहण के लिए काम कर रही बीवीजी कंपनी ने हूपर्स तो लगा रखे हैं, लेकिन ये कम पड़ रहे हैं।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned