बोर्ड गठन के 80 दिन में ही महापौर ने बना दी समितियां, खण्डेलवाल और लाहोटी को सवा साल लग गया था

नगर निगम ग्रेटर में बोर्ड गठन के 80 दिन में ही 17 संचालन समितियों का गठन हो गया है। भाजपा मुख्यालय पर बुधवार देर रात तक चले बैठकों के दौर और विधिक राय के बाद साधारण सभा की बैठक के पहले भी नेताओं ने सभी नामों को फाइनल किया। इसके बाद साधारण सभा की बैठक में संचालन समितियों के चेयरमैन की घोषणा कर दी गई।

By: Umesh Sharma

Published: 28 Jan 2021, 10:34 PM IST

जयपुर।

नगर निगम ग्रेटर में बोर्ड गठन के 80 दिन में ही 17 संचालन समितियों का गठन हो गया है। भाजपा मुख्यालय पर बुधवार देर रात तक चले बैठकों के दौर और विधिक राय के बाद साधारण सभा की बैठक के पहले भी नेताओं ने सभी नामों को फाइनल किया। इसके बाद साधारण सभा की बैठक में संचालन समितियों के चेयरमैन की घोषणा कर दी गई। इनके अलावा 7 अन्य समितियों के गठन का प्रस्ताव सरकार को भेजा गया है। निगम ने स्वास्थ्य और विद्युत की तीन—तीन समितियां बनाई है।

कार्यकारिणी समिति में हमेशा की तरह महापौर हो ही चेयरमैन बनाया गया है। महापौर पद से वंचित रहने वाली शील धाभाई को वित्त समिति का चेयरमैन बनाया गया है। तीन स्वास्थ्य समितियों में वार्ड नं. 1 से 50 तक रामकिशोर प्रजापत, 51 से 100 तक अभय पुरोहित और 101 से 150 वार्ड तक रामस्वरूप मीणा को चेयरमैन बनाया गया है। इसी तरह विद्युत समिति में वार्ड नं. 1 से 50 तक रश्मि सैनी, 51 से 100 तक सुखप्रीत बंसल और 101 से 150 वार्ड तक हरीश कुमार शर्मा को चेयरमैन पद की जिम्मेदारी दी गई है। जितेंद्र श्रीमाली को भवन अनुज्ञा एवं संकर्म समिति, भारती लख्यानी को गंदी बस्ती सुधार समिति, मीनाक्षी शर्मा को महिला और बाल विकास समिति का चेयरमैन बनाया गया है। उप महापौर पुणीत कर्णावट को नियम व उपविधि समिति, अजय सिंह चौहान को अपराधों का शमन एवं समझौता समिति, विनोद चौधरी को लोकवाहन समिति, रमेश सैनी को लाइसेंस समिति, पारस जैन को फायर समिति, राखी राठौड़ को उद्यान विकास एवं पर्यावरण समिति, अरुण वर्मा को पशु नियंत्रण एवं संरक्षण समिति, दुर्गेश नंदिनी को सांस्कृतिक समिति, अर्चना शर्मा को राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन समिति और प्रवीण कुमार यादव को होर्डिंग्स एवं नीलामी समिति का चेयरमैन बनाया गया है।

महापौर और उप महापौर पद के प्रबल दावेदार बने चेयरमैन

महापौर पद के लिए शील धाभाई, रश्मि सैनी और सुखप्रीत बंसल भी प्रबल दावेदार थीं। इन तीनों को चेयरमैन पद दिया गया है। इसी तरह जितेंद्र श्रीमाली उप महापौर पद के प्रबल दावेदारों में थे, उन्हें भवन अनुज्ञा एवं संकर्म जैसी मजबूत कमेटी का चेयरमैन बनाया गया है। इसी तरह वरिष्ठ पार्षद हरीश शर्मा, राखी राठौड़ और दुर्गेश नंदिनी को दोबारा चेयरमैन बनाया है।

सात अतिरिक्त समितियों का गठन, सरकार को भेजेंगे प्रस्ताव

नगर निगम बोर्ड ने सात अतिरिक्त समितियों का प्रस्ताव बनाकर भी सरकार को भेजा जाएगा। इसमें नगरीय विकास कर समिति में विकास बारेठ, सामाजिक सहायक एवं लोक कल्याण समिति में गजेंद्र चिराणा, वर्षाजल पुनर्भरण एवं संरक्षण समिति में शंकर लाल शर्मा, फुटकर व्यवसाय पुनर्वास समिति में अरुण शर्मा, सीवरेज संधारण समिति में अक्षत खूंटेटा, अतिक्रमण निरोधक समिति में लक्ष्मीण लूणीवाल और अवैध भवन निर्माण निरोधक समिति में नरेंद्र सिंह को चेयरमैन बनाया गया है।

झोटवाड़ा विधानसभा क्षेत्र में बनाई 9 समितियां

नगर निगम की संचालन समितियों के गठन में सबसे ज्यादा मेहरबानी झोटवाड़ा विधानसभा क्षेत्र पर की गई हैं। यहां 17 समितियों में से छह समिति चेयरमैन बनाए गए हैं। इनमें पूर्व महापौर शील धाभाई, राखी राठौड़, सुखप्रीत बंसल, विनोद चौधरी, प्रवीण यादव और अर्चना शर्मा शामिल हैं, वहीं अतिरिक्त समितियों में गजेंद्र सिंह, विकास बारहट और अक्षत खूंटेटा को जगह मिली है। इसी तरह सांगानेर विधानसभा क्षेत्र से 17 में से छह चेयरमैन बनाए गए हैं। इनमें खुद महापौर सौम्या गुर्जर के अलावा अरुण वर्मा, हरीश शर्मा, अभय पुरोहित, भारती लख्यानी, पारस जैन शामिल हैं। वहीं अतिरिक्त समिति में शंकर लाल शर्मा को चेयरमैन बनाया गया है।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned