कथित 'लेन-देन' Viral Video मामला: निलंबित मेयर और 'पति' के बचाव में उतरी BJP, तो अटैकिंग मोड पर Congress

- बकाया भुगतान पर कथित कमीशनखोरी का मामला, निलंबित मेयर के पति का वायरल वीडियो-गरमाई सियासत, आरोपों के बचाव में उतरी भाजपा- वीडियो को बताया फर्जी, भाजपा ने संयुक्त बयान में कहा- ‘कांग्रेस की सोची समझी चाल’, कांग्रेस हमलावर, निलंबित मेयर और पति की आय-संपत्ति की जांच की मांग

 

By: nakul

Published: 11 Jun 2021, 01:15 PM IST

जयपुर।

प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था और मेयर-पार्षद निलंबन मामले के गरमाए मुद्दों को पुरजोर तरीके से उठाकर भाजपा गहलोत सरकार को चौतरफा घेर रही थी। लेकिन अब जयपुर ग्रेटर नगर निगम की निलंबित मेयर के पति राजाराम का एक वीडियो वायरल होने के बाद पार्टी अपने ‘आक्रामक’ तेवरों से अचानक ‘बचाव’ मुद्रा में आ गई है। भाजपा नेता एक के बाद एक बयान जारी कर इस वीडियो को फर्जी बताते देते हुए कांग्रेस का षडयंत्र करार रहे हैं।

 

गौरतलब है कि जयपुर ग्रेटर नगर निगम की निलंबित मेयर डॉ सौम्या गुर्जर के पति राजाराम का एक कथित लेन-देन का वायरल वीडियो सामने आया जिसमें वे शहर की सफाई करने की ठेका कंपनी बीवीजी के प्रतिनिधि से बकाया भुगतान की एवज में कमीशन की डिमांड करते हुए बताये गए थे। इस वीडियो के आने के बाद से ही भाजपा ‘फ्रंटफुट’ के बजाये ‘बैकफुट’ पर आती नज़र आई।

 

वीडियो जारी करना कांग्रेस सरकार की चाल: भाजपा
प्रदेश भाजपा ने एक संयुक्त बयान में इस वीडियो को राज्य सरकार की शाह पर जारी किया जाना बताया है। पार्टी ने अपने बयान में कहा कि इस फर्जी वीडियो की भारतीय जनता पार्टी कड़े शब्दों में निंदा करती है और कांग्रेस को चेतावनी देती है कि इस तरह की कुटिल चाल को राजस्थान की जनता कभी स्वीकार नहीं करेगी।

 

प्रदेश भाजपा की ओर से जारी बयान में ये भी कहा कि कांग्रेस सरकार ने जिस अलोकतांत्रिक तरीके से मेयर डॉ सौम्या गुर्जर को हटाया है, उसके खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर की गई है। कोर्ट के फैसले को प्रभावित करने के लिए ही मीडिया में सौम्या गुर्जर के पति राजाराम गुर्जर का लेनदेन का झूठा वीडियो वायरल किया है।

 

बचाव में उतरे ये नेता
बकाया भुगतान के बदले कमीशनखोरी का कथित वीडियो वायरल होने के बाद प्रदेश भाजपा के कई नेता निलंबित मेयर और उनके पारी राजाराम के बचाव में उतर आये। इनमें प्रदेश भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण चतुर्वेदी, जयपुर सांसद रामचरण बोहरा , प्रदेश उपाध्यक्ष अजय पाल सिंह, पूर्व विधायक मोहनलाल गुप्ता और जयपुर शहर अध्यक्ष राघव शर्मा शामिल रहे।

 

हालाँकि इस मसले पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया, नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया और उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ सरीखे वरिष्ठ नेताओं ने गुरुवार को दिनभर में अलग से कोई व्यक्तिगत प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की। यही नहीं पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का भी इस सिलसिले में कोई बयान जारी नहीं हुआ।

 

...इधर कांग्रेस हुई हमलावर
कथित लेन-देन का वायरल वीडियो सामने आने के बाद कांग्रेस पार्टी हमलावर है। सत्तारूढ़ पार्टी को जैसे बैठे-बिठाए भाजपा पर निशाना साधने का मौका मिल गया। कांग्रेस नेता अर्चना शर्मा ने एक बयान में आरोप लगाया है कि निलंबित मेयर के पति के कथित वायरल वीडियो से स्पष्ट है कि बर्खास्त मेयर और उनके पति का करौली छोडकर जयपुर आना और यहां नगर निगम चुनाव लड़ने का उद्देश्य सेवा करना नहीं बल्कि करौली की तरह जयपुर में भ्रष्टाचार करना था।

 

उन्होंने कहा कि पिछले साल चुनाव के बाद जब भाजपा को नवनिर्वाचित पार्षद में से मेयर का चयन करना था,तब भी बर्खास्त मेयर का नाम सामने आने पर बहुत से भाजपा नेताओं ने इसी आधार पर इनके चयन की खिलाफत की थी कि दोनों पति-पत्नी का पूर्व रिकार्ड अच्छा नहीं है और करौली नगर परिषद् के सभापति के रूप में इनके पति भ्रष्टाचार सहित अनेक अनियमितता बरतने के आरोपित रहे हैं।

 

शर्मा ने राज्य सरकार और भाजपा प्रदेश नेतृत्व दोनों से बर्खास्त मेयर और उनके पति की आय, सम्पत्ति और करौली नगर परिषद् के सभापति रहते लगे आरोपों की जांच करवाने की मांग की।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned