scriptjaipur news jaipur chaupati masala chauk | मसाला चौक से आया कल्चर, अब जयपुर चौपाटी भी आ रही रास | Patrika News

मसाला चौक से आया कल्चर, अब जयपुर चौपाटी भी आ रही रास

 

—यूरोप के इस कल्चर को जयपुर में खूब पंसद किया जा रहा, सैकड़ों लोग पहुंच रहे

जयपुर

Updated: November 28, 2021 07:48:14 pm

जयपुर। राजधानी जायकों के साथ—साथ दक्षिण भारतीय और चाइनीज व्यंजनों का एक साथ जयपुरवासी लुत्फ उठा रहे हैं। यूरोपीय देशों का यह कल्चर तीन वर्ष पहले राजधानी में आया और रामनिवास बाग में मसाला चौक शुरू हुआ था। उसके बाद अब जयपुर चौपाटी के व्यंजनों का स्वाद जयपुरवासियों के अलावा अन्य लोगों को भी रास आ रहा है। यही वजह है कि यहां रोज सैकड़ों लोगों की आवाजाही होती है। वीकेंड पर तो लोगों की संख्या दोगुना तक हो जाता है।
मसाला चौक से आया कल्चर, अब जयपुर चौपाटी भी आ रही रास
मसाला चौक से आया कल्चर, अब जयपुर चौपाटी भी आ रही रास
इसलिए आ रहे लोग
—शहरवासियों को एक ही जगह पर शहर के परम्परागत व्यंजन मिल जाते हैं। साथ ही चाइनीज और साउथ इंडियन फूड भी मिल जाता है।
—मसाला चौक के पास अल्बर्ट हॉल है। ऐसे में सैलानियों की संख्या भी यहां पर खूब रहती है।
एक साथ सब कुछ
इन जगहों पर राजस्थानी, चाइनीज, साउथ इंडियन फूड के अलावा पंजाबी फूड, मिठाई, चाट, चाय और कॉफी से लेकर आइसक्रीम और ज्यूस की भी शॉप्स हैं। यानी एक ही जगह पर दाल बाटी चूरमा, बेजड़—टिक्कड़, मक्के की रोटी से लेकड डोसा, उत्पम, पंजाबी भल्ला, पाव भाजी, छोले—भटूरे, चीला का लुत्फ उठा रहे हैं।

ये स्थिति
1—जयपुर चौपाटी
सामान्य दिनों में: 4200 से 4400 लोग
वीकेंड पर प्रतिदिन: आठ हजार से 10 हजार तक
—मानसरोवर और प्रताप नगर दोनों चौपाटियों की स्थिति

2—मसाला चौक
सामान्य दिनों में: 1500 से 1700
वीकेंड पर प्रतिदिन: तीन हजार से 3500 तक
—जेडीए अधिकारियों की मानें तो शुरुआत के दिनों में एक दिन में चार हजार से पांच हजार तक लोग आते थे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.