राधा-कृष्ण मंदिरों में सादगी से मनाया राधाष्टमी उत्सव

radha ashtami utsav 2020: छोटी काशी के राधाकृष्ण मंदिरों में वृषभानु दुलारी राधाजी के प्राकृट्योत्सव का उल्लास छाया रहा। इस मौके पर राधाकृष्ण मंदिरों में राधा रानी के पुरुष युक्त पाठों से पंचामृताभिषेक किया गया।

By: Devendra Singh

Published: 26 Aug 2020, 03:19 PM IST

जयपुर। भाद्रपद शुक्ल अष्टमी पर आज बुधवार को सुबह से छोटी काशी के राधाकृष्ण मंदिरों में वृषभानु दुलारी राधाजी के प्राकृट्योत्सव का उल्लास छाया रहा। इस मौके पर राधाकृष्ण मंदिरों में राधा रानी के पुरुष युक्त पाठों से पंचामृताभिषेक किया गया। इस दौरान घंटे-घडिय़ाल की ध्वनि गुंजायमान होती रही। कोरोना के कारण श्रद्धालुओं का मंदिरों में प्रवेश निषेध रहा और बिना श्रद्धालुओं के ही सादगी से उत्सव मनाया जा रहा है। उत्सव व झांकी दर्शन ऑनलाइन व सोशल मीडिया के माध्यम से करवाए जा रहे है।

रामगंज बाजार स्थित लाड़लीजी मंदिर में महंत संजय गोस्वामी के सान्निध्य में सुबह 5.30 बजे राधाजी का पंचामृताभिषेक किया गया। ठाकुरजी को पीत रंग की पोशाक व अलंकार धारण करवा कर शृंगार किया गया। इसके बाद धूप झांकी में चरण दर्शन, 9 बजे वृषभानु दुलारी पालना दर्शन भक्तों को सोशल मीडिया के माध्यम से करवाए गए। अपराह्न एक बजे से उछाल, बधाई व वात्सल्य पदों का गायन होगा। अपराह्न 3 बजे से हेरी समाज व ग्वारिया समाज आदि कार्यक्रम होंगे। शाम 7 बजे भक्ति संगीत व बधाई गान होगा।

आराध्य गोविन्ददेवजी के मंदिर में राधा रानी का जन्मोत्सव मनाया गया। महंत अंजन कुमार गोस्वामी के सान्निध्य में मंगला आरती के बाद 4.45 बजे तिथि पूजा व प्रियाजी का अभिषेक हुआ। अभिषेक दर्शन खुलने पर आतीशबाजी की गई। इस अवसर पर ठाकुरजी को विशेष व्यंजन पंजीरी लड्डू व मावे की बर्फी का भोग लगाया गया। मंदिर के प्रवक्ता मानस गोस्वामी ने बताया कि अभिषेक के बाद ठाकुरजी को पीले पोशाक व अलंकार धारण करवाए गए। मंदिर के मुख्य द्वार पर शहनाई वादन हुआ। धूप झांकी खुलने पर अधिवास पूजन व 56 भोग झांकी दर्शन हुए। शृंगार झांकी के बाद राधारानी का जन्मोत्सव मनाया गया एवं खुशी में उछाल की गई। इस बार कोरोना के कारण श्रद्धालु उत्सव में शामिल नहीं हो सके। उत्सव दर्शन रात्रि 7.45 से 8. 25 बजे तक ऑनलाइन करवाए जाएंगे।

चांदनी चौक स्थित देवस्थान विभाग के ब्रजनिधि मंदिर में सुबह 5.30 बजे पुजारी भूपेन्द्र कुमार रावल के सान्निध्य में राधाजी का जन्माभिषेक किया गया। ठाकुरजी को पीली पौशाक धारण करवा कर शृंगार किया गया। भोग आरती में विशेष व्यंजनों का भोग लगाया गया। कोरोना के कारण इस बार बड़ा आयोजन नहीं हुआ।

सुभाष चौक पानों का दरीबा स्थित सरस निकुंज में पीठाधीश्वर अलबेली माधुरी शरण के सान्निध्य में राधा रानी का प्राकृट्य उत्सव मनाया गया। प्रवक्ता प्रवीण बड़े भैया ने बताया कि सुबह ठाकुर राधासरस बिहारी जू सरकार का अभिषेक कर भक्तों को शृंगार आरती दर्शन करवाए गए।

Devendra Singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned