गरीब परिवारों को मिलें 10 हजार, श्रमिक भी नि:शुल्क पहुंचे घर

-केंद्र सरकार तक लोगों की आवाज पहुंचाने के लिए कांग्रेस ने सोशल मीडिया पर चलाया स्पीक इंडिया अभियान

By: Ashwani Kumar

Published: 28 May 2020, 04:35 PM IST

-प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट से लेकर सरकार के मंत्री और संगठन के पदाधिकारी रहे सक्रिय

जयपुर. लॉकडाउन परेशान श्रमिकों की आवाज को केंद्र सरकार तक पहुंचाने के लिए कांग्रेस ने गुरुवार को सोशल मीडिया पर स्पीक इंडिया अभियान चलाया। इसमें कांग्रेस के तमाम नेताओं ने गरीब परिवारों को 10 हजार रुपए नगद दिए जाने के अलावा मजदूरों के लिए नि:शुल्क परिवहन सेवा और मनरेगा के तहत श्रमिकों को 200 दिन रोजगदार देने की मांग की। सुबह 10:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक कांग्रेसी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सक्रिय रहे।
प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट लॉकडाउन 4.0 खत्म होने को हैं, लेकिन अब तक कोई आगे की रणनीति नहीं बनी है। लॉकडाउन होने से जो हालात बने, उसी की वजह से लाखों-करोड़ों लोग पैदल ही चल पड़े। इसके लिए हम सभी सामूहिक रूप से जिम्मेदार हैं। इससे ज्यादा दयनीय हालत पैदा नहीं कर सकते थे। इन सभी हालातों को देखते हुए पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी की पहल पर कांग्रेस ने मजदूरों को उनके घर भेजने का निर्णय लिया। जब राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी में 1000 बसें भेजने का निर्णय लिया तो संकीर्ण राजनीति के चलते बसों को यूपी सरकार ने लौटा दिया गया।
उन्होंने कहा कि आर्थिक पैकेज से किसी को फायदा नहीं हुआ। ऐसे में सरकार से उन्होंने मांग की कि पश्चिम और दक्षिण एशियाई देशों की तरह गरीब परिवारों के खाते में सीधे 10 हजार रुपए डाले जाएं।

मनरेगा ही आ रही काम
पायलट ने कहा कि आर्थिक स्थिति से निबटने और ग्रामीण क्षेत्रों की अर्थव्यवस्था को सुचारू रखने में मनरेगा का हाथ है। केंद्र सरकार ने अतिरिक्त 40 हजार करोड़ रुपए दिए हैं। मनरेगा यूपीए सरकार की देन है। जब भाजपा सत्ता में आई थी तो इस योजना पर ही सवाल उठा रहे थे। आज राज्य में 41 लाख मजदूर काम कर रहे हैं, जो देश में सर्वाधिक हैं।

Ashwani Kumar Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned