JAIPUR : अब देखिए नाइट स्काई टूरिज्म

राजधानी में गुरुवार को नाइट स्काई टूरिज्म (Night Sky Tourism) की शुरुआत हुई। अब टेलीस्कोप के माध्यम से पर्यटकों के साथ लोग निःशुल्क आकाशीय नजारे (Telescope celestial view) देख सकेंगे। कला व संस्कृति मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला और मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने सचिवालय के लॉन में नाइट स्काई टूरिज्म की शुरूआत की। उन्होंने टेलीस्कोप के माध्यम से शाम को आकाशीय नजारों को देखा।

By: Girraj Sharma

Published: 21 Jan 2021, 09:42 PM IST

अब देखिए नाइट स्काई टूरिज्म
— टेलीस्कोप से निःशुल्क देख सकेंगे आकाशीय नजारे
— नाइट स्काई टूरिज्म की जयपुर से शुरूआत
— कला व संस्कृति मंत्री और मुख्य सचिव ने सचिवालय से देखे आकाशीय नजारे

जयपुर। राजधानी में गुरुवार को नाइट स्काई टूरिज्म (Night Sky Tourism) की शुरुआत हुई। अब टेलीस्कोप के माध्यम से पर्यटकों के साथ लोग निःशुल्क आकाशीय नजारे (Telescope celestial view) देख सकेंगे। कला व संस्कृति मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला और मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने सचिवालय के लॉन में नाइट स्काई टूरिज्म की शुरूआत की। उन्होंने टेलीस्कोप के माध्यम से शाम को आकाशीय नजारों को देखा। कला एवं संस्कृति तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी सचिव मुग्धा सिन्हा ने बताया कि अब हर माह खगोलीय परिदृृश्य के अनुसार शहर में अलग—अलग जगहों से लोगों को आकाशीय नजारे दिखाए जाएंगे। लोगों के लिए यह सुविधा निःशुल्क उपलब्ध रहेगी।

विज्ञान के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा होगी — कल्ला

मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला ने कहा कि नाइट स्काई टूरिज्म से विज्ञान के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा होगी। आकाशीय पिंडाें में रूचि रखने वाले विद्यार्थियों और शोधार्थियों को इससे मदद मिलेगी। इसके लिए शहर में अलग-अलग स्पॉट बनाने होंगे, जहां से टेलिस्कॉप के माध्यम से पर्यटक आकाशीय नजारों का अवलोकन कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि नाइट स्काई टूरिज्म से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, साथ ही आम जनता मेंं वैज्ञानिक सोच का निर्माण भी होगा।

उद्देश्य — लोगों में वैज्ञानिक सोच पैदा करना
मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने भी आकाशीय अद्भुत नजारों को देखा। उन्होंने कहा कि यह एक नई शुरूआत है। इससे लोगों को एक नई दिशा में सोचने एवं आकाश गंगा के बारे में जानने की जिज्ञासा पैदा होगी। सचिव मुग्धा सिन्हा ने कहा कि हमारा उद्देश्य लोगों में वैज्ञानिक सोच पैदा हो, प्रकृति में होने वाली घटनाओं के बारे में वैज्ञानिक तरीके से लोग जागरूक हो सके।

सालभर यहां से देखिए आकाशीय नजारे

— 22 जनवरी को जवाहर कला केन्द्र से टेलीस्कोप से चंद्रमा को दिखाएंगे
— 11 फरवरी को जंतर-मंतर से शनि, बृहस्पति, शुक्र एवं बुध ग्रहों को दिखाया जाएगा
— 5 मार्च को अल्बर्ट हॉल से बृहस्पति व बुध ग्रहों के संयोग को दिखाया जाएगा
— 17 मई को आमेर किले से बुध ग्रह को दिखाया जाएगा
— 26 मई को आमेर दुर्ग से वर्ष 2021 के सबसे बड़े चंद्रमा का दर्शन कराया जाएगा
— 3 जुलाई को अल्बर्ट हॉल से शुक्र ग्रह के कराएंगे दर्शन
— 2 अगस्त को नाहरगढ़ दुर्ग से शनि व चंद्रमा और 20 अगस्त को बृृहस्पति और चंद्रमा, 23 अगस्त को बृहस्पति पर होने वाले ग्रहण को दिखाया जाएगा
— 4 सितम्बर को सिटी पैलेस से वरूण एवं चंद्रमा को दिखाया जाएगा
— 4 अक्टूबर को राजस्थान विश्वविद्यालय में बृहस्पति पर पड़ने वाली छाया और 29 अक्टूबर को शुक्र ग्रह का दृश्य दिखाया जाएगा
— 4 नवंबर को जंतर—मंतर से अरूण एवं चंद्रमा का खगोलीय दृश्य निःशुल्क दिखाया जाएगा

Girraj Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned