ठहराव नहीं फिर ट्रेन से गांधी नगर स्टेशन पर उतरे गांजा तस्कर, पुलिस ने दबोचा

 

- चेन पुलिंग की संभावना, पुलिस कर रही पड़ताल
- दो तस्कर, रिसीवर और डिलीवरी मैन 27 किलो गांजा, 18 हजार रुपए और स्कूटी वाहन सहित गिरफ्तार

By: Devendra Sharma

Published: 07 Mar 2020, 10:41 PM IST

जयपुर. अवैध मादक पदार्थ तस्कर इतने शातिर हो गए हैं कि पुलिस से बचने के लिए नए-नए तरीके इजाद कर रहे हैं। शुक्रवार को कुछ ऐसा हुआ कि पश्चिम बंगाल से दो तस्कर गांजा लेकर जयपुर आ रहे थे। ट्रेन का ठहराव जयपुर जंक्शन पर था। तस्करों को जयपुर में चल रहे ऑपरेशन क्लीन स्वीप अभियान की जानकारी थी। ऐसे में वह बिना ठहराव वाले गांधी नगर स्टेशन के पास ही उतर गए। पता चला है कि ट्रेन की चेन पुलिंग की गई थी। लेकिन यह पुष्टि नहीं हो सकी है कि पकड़े गए तस्करों ने ही ऐसा किया था क्या। पुलिस पड़ताल कर रही है कि चेन पुलिंग किसने की।


उक्त गिरोह के बारे में मुखबिर से मिली सूचना पर पुलिस ने शुक्रवार रात को पांच अलग-अलग स्थानों पर निगरानी रखी। ट्रेन में गांजा लेकर आए दो तस्करों को गांधी नगर रेलवे स्टेशन के पास सीएसटी ने पकड़ लिया। आरोपियों के लगेज की जांच की तो उसमें गांजा बरामद किया। पुलिस ने आरोपी कूचबिहार निवासी नान मिया उर्फ लाल मिया (34) और सुकुमार सरकार (40) को गिरफ्तार कर उनके पास मिले 26 किलो गांजे को जब्त कर लिया। आरोपियों से पूछताछ में सामने आया कि यह माल वह संतोष दास और देवगन बर्मन उर्फ नवीन को देना था।


पुलिस टीम ने मूलत: कूच बिहार हाल वसुंधरा कॉलोनी निवासी देवगन बर्मन (34) को भी एक स्कूटी और 18 हजार रुपए के साथ गिरफ्तार कर उसके विरुद्ध बजाज नगर थाने में मामला दर्ज करवाया। एक अन्य टीम ने मालवीय नगर सेक्टर 7 निवासी संतोष दास को भी गिरफ्तार कर उसके पास से 1 किलो 100 ग्राम गांजा जब्त किया।


पांच स्थानों पर लगाई टीम


एडीसीपी विमल सिंह, सीआई लखन खटाना, सुरेन्द्र यादव के नेतृत्व में उक्त गिरोह के बारे में जानकारी जुटाई गई। सूचना पुख्ता हो गई तो भरतपुर, जयपुर जंक्शन, गांधी नगर रेलवे स्टेशन, महावीर नगर और मालवीय नगर में टीमों को लगाया गया। उक्त ट्रेन कई घंटे लेट थी, पुलिस को लंबा इंतजार करना पड़ा। जब तस्कर पकड़े गए तो उनके पास से 12 पार्सल मिले, जिनमें गांजा था। बजाज नगर और जवाहर सर्कल पुलिस की मदद से दोनों रिसिवर को भी गिरफ्तार कर लिया गया।


मजदूर बताता और बेचता गांजा


सभी आरोपी मूलत: कूच बिहार के ही रहने वाले हैं। देवगन करीब 20 साल पहले जयपुर आया और मजदूरी का कार्य करने लगा। फिर मादक पदार्थ तस्करी में लिप्त हो गया। करीब दो महीने से संतोष व देवगन अपने गांव के आस-पास के लोगों से ट्रेन के माध्यम से गांजा मंगवाते थे। यहां पर 500-1000 ग्राम में बिक्री करते थे। इन्होंने अपने किराए के मकान पर तोलने के लिए कांटा भी रख रखा था।


पॉश इलाके में करते सप्लाई


दोनों ने मालवीय नगर व महावीर नगर जैसे पॉश इलाके में तस्करी की जगह चुनी, ताकि किसी को संदेह न हो। स्टेशन से गिरफ्तार किए गए आरोपी 3000 रुपए किलो में गांजा लेकर आए थे और यहां पर दोनों रिसीवर को 6000 रुपए में बेचते। फिर यह 10000 रुपए किलो में गांजा बेचते। यह स्कूटी पर छोटे-छोटे पैकेट बनाकर के सप्लाई करते थे।

Devendra Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned