scriptJaipur Professor KeyNote in Tamilnadu | इंडस्ट्रियल इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स से 5 साल में 20-34 प्रतिशत रोजगार हो जाएंगे कम : प्रोफेसर शर्मा | Patrika News

इंडस्ट्रियल इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स से 5 साल में 20-34 प्रतिशत रोजगार हो जाएंगे कम : प्रोफेसर शर्मा

इंडस्ट्रियल इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स से 5 साल में 20-34 प्रतिशत रोजगार हो जाएंगे कम : प्रोफेसर शर्मा

 

जयपुर

Published: August 12, 2018 08:13:20 pm

जयपुर।

तमिलनाडू के कोयंबटूर में आयोजित हुए कीनोट स्पीच में जयपुर के प्रोफेसर डी पी शर्मा भी शामिल हुए। प्रो. ने यहां 9 से 10 अगस्त तक आयोजित इंटरनेशनल कांफ्रेंस में कीनोट स्पीच दिया। प्रो.शर्मा वर्तमान में जिनेवा स्विट्ज़रलैंड स्थित युनाइटेड नेशन्स की इंटरनेशनल लेबर आर्गेनाइजेशन के अंतर्राष्ट्रीय कंसलटेंट, सलाहाकार हैं। कोयंबटूर में हुई कांफ्रेंस में प्रोफेसर डी पी शर्मा बतौर मुख्य अतिथि एवं कीनोट स्पीच के रूप में शामिल हुए।
Professor
कॉन्फ्रेंस में प्रोफेसर शर्मा ने साइबर दुनियां के खतरे, मनुष्य की अति निर्भरता एवं तकनीकी दुनियां विशेषकर साइबर दुनियां में भविष्यगामी बर्बादी के बारे में लोगों को अवगत किया। उन्होंने कहा कि इंडस्ट्रियल इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स अगले 5 साल में 20-34 प्रतिशत तक रोजगार को खा जायेगा। उन्होंने चीन की एक कंपनी का उदाहरण देते हुए बताया की किस प्रकार एक रात में 6500 कर्मचारी एवं इंजीनियर्स में से 6000 को रोबोट्स से रिप्लेस कर दिया। ताज्जुब की बात तो तब हुई जब 6 महीने में कंपनी की उत्पादकता 250 प्रतिशत बढ़ गयी एवं प्रोडक्ट्स की डिफेक्ट रेट 80 प्रतिशत तक कम हो गयी।
उन्होंने कहा कि मनुष्य की नेचुरल इंटेलिजेंस को आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस से रिप्लस किया जा रहा है जिसे हम रोक तो नही सकते परन्तु कम कर सकते हैं।
समाज विज्ञानी एवं यूनाइटेड नेशंस भी इस बारे में चिंतित हैं कि ह्यूमन इंटेलिजेंस पिछले 60 साल में बहुत गिरा है, मशीन इंटेलिजेंस और उन पर निर्भरता बड़ी है।
बता दें कि प्रो शर्मा को इसी साल शिक्षा, साइबर सिक्योरिटी, ग्रीन कंप्यूटिंग एवम कम्युनिकेशन के माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर किये गए उल्लेखनीय कार्यों लिए शांतिदूत इंटरनेशनल अवार्ड से सम्मानित किया गया था। प्रोफेसर डी पी शर्मा दिव्यांगता के बावजूद साइबर स्पेस में इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के माध्यम से होने वाले अपराधों की रोकथाम एवं ग्रीन इन्फर्मेशन टेक्नालजी, धार्मिक वायरल उन्माद, इलेक्ट्रॉनिक रेडिएशन, मोबाइल रेडिशन्स एवं ग्रीन पीस इन साइबर वर्ल्ड क्षेत्र में अनेकों देशों में कीनोट स्पीच दे चुके हैं।
धौलपुर निवासी प्रोफ शर्मा अभी हाल में फ़्लैंडर्स यूनिवर्सिटी बेल्जियम के इंटरनेशनल रिसर्च एडवाइजरी कमीशन के मेंबर भी हैं। प्रोफेसर शर्मा ने धौलपुर जिले के ग्रामीण परिवेश से शिक्षा प्राप्त कर अनेकों इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी पुस्तकों का लेखन किया एवं अनेकों देशों में आयोजित इंटरनॅशनल कॉन्फ्रेंस में कीनोट स्पीच शिक्षा एवं सूचना तकनीकी को शांति ,ग्रीन कंप्यूटिंग और ग्रीन पीस से जोड़कर दिये हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने मंत्रिमंडल विस्तार पर दिया बड़ा बयान, विदर्भ के विकास को लेकर भी कही यह बातएमपी के इन दो शहरों में हो सकता है G 20 शिखर सम्मेलन, शुरु हुई आयोजन की तैयारियांUdaipur kanhaiya lal Murder: चिकन शॉप से खुलेंगे कन्हैया हत्याकांड के राज...!सुपरटेक ट्विन टावर गिरने से आसपास नहीं होगा नुकसान, कंपनी ने तैयार किया खास प्लानदूल्हे भगवान जगन्नाथ को नहीं लगे नजर, पट हुए बंददूरियां कितनी हुई कम, एक ही दिन में बीजेपी के दो बड़े नेता अलग अलग समय पर पहुंचे कन्हैयालाल के घरPresident Election 2022 : पटना में द्रौपदी मुर्मू ने NDA के नेताओं से मांगा समर्थन, सीएम नीतीश से की मुलाकात, गुवाहाटी के लिए हुई रवानाभारी बारिश से मध्य प्रदेश में बाढ़ ही बाढ़, इन राज्यों से संपर्क टूटा, पुल से डेढ़ फीट ऊपर बह रही नदी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.