शिक्षा रैकिंग में पहले नंबर पर जयपुर


स्कूल शिक्षा परिषद ने जारी की रैंकिंग
लगातार तीसरी बार पहले स्थान पर कायम जयपुर
भीलवाड़ा ने लगाई 9 पायदान की छलांग

By: Rakhi Hajela

Published: 13 Nov 2020, 07:55 PM IST


प्रदेश की सरकारी स्कूली शिक्षा में गुणवत्ता बढ़ाने के लिए प्रदर्शन के आधार पर जारी रैंक में जयपुर जिला एक बार फिर प्रथम स्थान पर रहा है। राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद की ओर से हाल ही में अक्टूबर की रैकिंग जारी की गई है। आपको बता दें कि जयपुर इससे पूर्व अगस्त और सितंबर में भी रैकिंग में पहले स्थान पर रहा था। वहीं भीलवाड़ा जिला 16वें स्थान आ गया है, जबकि, सितंबर में प्रदेश में 25वां स्थान था। भीलवाड़ा ने 9 पायदान की छलांग लगाई है। प्रदेश स्तरीय रैंकिंग में पाली इस बार 9 स्थान का सुधार हुआ है। 8 माह बाद पाली अक्टूबर की रैकिंग में 20 से 11वें स्थान पर पहुंचा है। रैंक में नागौर ने 10 पायदान की छलांग लगाई है। राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद की ओर से जारी अक्टूबर की रैंक में नागौर जिला 20वें स्थान आ गया है। जबकि, सितंबर में प्रदेश में 30वां स्थान था। वहीं दूसरी ओर प्रदेश में शिक्षा का हब माने जाने वाले कोटा की रैंक 22 से गिरकर 28 वें नंबर पर पहुंच गई है।

इन 43 पैरामीटर के आधार पर तय होती है रैंकिंग
आपको बता दें कि शिक्षा विभाग की ओर से हर माह शिक्षा रैंकिंग जारी की जाती है। इसमें सुधार के लिए पीईईओ को अपने अधीन स्कूलों के 43 पैरामीटर की सूचनाएं शाला दर्पण पर अपलोड करनी होती हैं। जिसमें शाला दर्पण पर जिले के स्कूलों में समुदाय से राशि प्राप्त करने वाले स्कूलों की संख्या की फीडिंग, ज्ञान संपर्क पोर्टल में प्राप्त राशि, बिजली, पानी की सुविधा से जुड़े स्कूल समेत 43 पैरामीटर वाले बिंदुओं को अपलोड किया जाता है।

जिला वार रैंकिंग
प्रदेश की जिलावार शिक्षा रैंकिंग में पहले स्थान पर जयपुर, दूसरे पर चूरू, तीसरे पर हनुमानगढ़, चौथे पर चितौडगढ़़, 5वें पर झालावाड़, 6 पर सीकर, 7 पर बूंदी, 8 पर बारां, नौ पर गंगानगर, 10 पर डूंगरपुर, 11 पाली, 12 बीकानेर, 13 झुंझुनु, 14 बांसवाड़ा, 15 टोंक, 16 भीलवाड़ा, 17 अजमेर, 18 भरतपुर, 19 अलवर, 20 नागौर, 21 सवाई माधोपुर, 22 उदयपुर, 23 पर राजसमंद, 24 पर सिरोही, 25 पर धौलपुर, 26 पर बाड़मेर, 27 पर जालोर, 28 पर करौली, 29 पर जोधपुर, 30 पर जैसलमेर, 31 पर कोटा, 32 पर दौसा एवं अंतिम 33वें पायदान पर प्रतापगढ़ जिला रहा।

बाड़मेर फिर पिछड़ा, 26वें स्थान पर
इस रैकिंग में बाड़मेर इस बार भी 26वें स्थान पर रहा। 8 माह बाद रैंकिंग में कोई सुधार नहीं हुआ। संस्था प्रधानों को नोटिस थमाने के साथ प्रभावी मॉनिटरिंग के बावजूद सकारात्मक नतीजे सामने नहीं आए। ब्लॉक और जिला स्तर के अधिकारियों ने भी रैंकिंग में सुधार के मामले को गंभीरता से नहीं लिया। इस वजह से अक्टूबर की रैंकिंग में भी बाड़मेर पिछड़ गया। वहीं भरतपुर 13वीं से 18वीं पर गिर गया। सितंबर भरतपुर की शिक्षा रैंकिंग 13वीं थी। जुलाई व अगस्त में प्रदेश में भरतपुर की रैंक 11वीं थी।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned