नगर निगम के 5 बोर्ड, नहीं हुआ 5500 गंदी गलियों का स्थाई समाधान

जयपुर के चारदीवारी क्षेत्र को विश्व विरासत का खिताब (World heritage City) मिल गया, लेकिन यहां के निवासी आज भी गंदी गलियों (Dirty streets) से परेशान है। परकोटे में सफाई, सीवर लाइन जाम की समस्या के बीच गंदी गलियां कोढ़ में खाज का काम कर रही है। नगर निगम के पांच बोर्डों का कार्यकाल पूरा हो चुका, लेकिन गंदी गलियों का स्थाई समाधान नहीं हो पाया है।

By: Girraj Sharma

Published: 18 Oct 2020, 09:52 PM IST

नगर निगम के 5 बोर्ड, नहीं हुआ 5500 गंदी गलियों का स्थाई समाधान
— चारदीवारी के हर रास्ते में है ये गंदी गलियां
— अब चुनाव आते ही फिर उठा गंदी गलियों का मुदृदा

जयपुर। जयपुर के चारदीवारी क्षेत्र को विश्व विरासत का खिताब (World heritage City) मिल गया, लेकिन यहां के निवासी आज भी गंदी गलियों (Dirty streets) से परेशान है। परकोटे में सफाई, सीवर लाइन जाम की समस्या के बीच गंदी गलियां कोढ़ में खाज का काम कर रही है। नगर निगम के पांच बोर्डों का कार्यकाल पूरा हो चुका, लेकिन गंदी गलियों का स्थाई समाधान नहीं हो पाया है। इतना ही नहीं तीन विधानसभा क्षेत्र के विधायक भी इस समस्या का स्थाई समाधान नहीं करा पाए।
किशनपोल विधानसभा क्षेत्र, हवामहल विधानसभा क्षेत्र और आदर्श नगर विधानसभा क्षेत्र के वार्डों में करीब 5 हजार 500 गंदी गलियां है। हर साल इनकी सफाई का ठेका दिया जाता है, लेकिन गंदी गलियां पूरी तरह साफ नहीं हो पाती है। पिछले बोर्ड में नगर निगम प्रशासन ने गंदी गलियों की सफाई का टेंडर डोर—टू—डोर कचरा संग्रहण कर रही बीवीजी कंपनी को दिया, लेकिन कंपनी ने गंदी गलियों की सफाई पर कोई ध्यान नहीं दिया। अब लोग गंदी गलियों की बदबू से परेशान है। अब नगर निगम चुनाव आते ही लोग फिर से गंदी गलियों का मुद्दा उठाने लगे है।

Girraj Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned