जन्माष्टमी उत्सव 2019 : गोविंददेवजी मंदिर में बह रही भक्ति की सुरीली धारा, आयोजित हो रहे विभिन्न कार्यक्रम

Uma Mishra

Publish: Aug, 20 2019 06:22:03 PM (IST)

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

जयपुर. शहर के प्रसिद्ध गोविंददेवजी मंदिर में कृष्ण जन्मोत्सव को लेकर भक्ति रस से लबरेज सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। जन्माष्टमी महोत्सव को देखते हुए मंदिर में विशेष सजावट भी देखी जा रही है। भक्तों की भीड़ भी आम दिनों से ज्यादा हो गई है।

जयपुर छोटी काशी भी दूसरा वृंदावन भी
गुलाबी नगरी की ख्याति छोटी काशी के रूप में भी है, तो दूसरे वृंदावन के रूप में भी। गोविंददेवजी के मंदिर में जब भक्त आस्था में डूबे नजर आते हैं, तो उन्हें देखकर यही लगता है कि हम वृंदावन धाम में हैं। यूं चैतन्य महाप्रभु की परंपरा के संत भी गुलाबी नगरी को दूसरा वृंदावन ही मानते हैं।

बता दें कि चैतन्य महाप्रभु के शिष्य शिवराम गोस्वामी ही राधा-गोविंद के विग्रहों को वृंदावन से यहां लेकर आए थे। जब जयपुर बसा तो राजा सवाई जयसिंह ने राधा-गोविंद के विग्रहों को चंद्रमहल के समीप बने जयनिवास उद्यान में बने सूर्य महल में प्रतिष्ठित करवाया था।

गोविंद नाम की धूम
यूं तो गोविंददेवजी के मंदिर में हर रोज उत्सव का माहौल रहता है, लेकिन जन्माष्टमी के अवसर पर विशेष साज-सज्जा की जाती है। इन दिनों भी यह साज-सज्जा देखी जा रही है। सिर्फ गोविंददेवजी मंदिर में ही नहीं, बल्कि चारदीवारी के भीतर बसे सभी बाजारों में जन्माष्टमी की धूम दिखाई दे रही है। बैनर और होर्डिंग के जरिए लोग अपनी भावनाएं जाहिर कर रहे हैं।

लगातार आयोजित हो रहे कार्यक्रम
जन्माष्टमी के अवसर को देखते हुए गोविदंदेवजी मंदिर में लगातार भक्ति रस युक्त सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन हो रहा है। भक्ति संगीत और कृष्ण लीला का मंचन विशेष रूप से हो रहा है।

बुधवार को राम सत्संग मंडल त्रिवेणी धाम की ओर से भजन-कीर्तन होंगे। इसी के साथ शाम को श्याम अनमोल सेवा रत्न परिवार की ओर से भजन संध्या आयोजन किया जाएगा, जिसमें भजन गायक नंदूजी भजनों की प्रस्तुति देंगे।

22 अगस्त को गोपीनाथ मंडल गौरांग दास की ओर से भजन कीर्तन का कार्यक्रम पेश किया जाएगा। शाम को गिरिराज परिक्रम मंडल की ओर से भजन-कीर्तन होंगे। वहीं 23 अगस्त को वृंदावन वैष्णव मंडल की ओर से सुबह साढ़े नौ बजे अष्ट प्रहर हरि नाम संकीर्तन होगा।

गोविंददेवजी में 24 को मनेगी जन्माष्टमी
बता दें कि तिथि के हिसाब से जन्माष्टमी 23 अगस्त को मनाई जाएगी, वहीं रोहिणी नक्षत्र को प्रधानता देने वाले 24 अगस्त को जन्माष्टमी मनाएंगे। गोविंददेवजी में 24 को जन्माष्टमी मनाई जाएगी। शहर के अधिकतर लोग गोविंददेवजी मंदिर के आधार पर ही जन्माष्टमी मनाते हैं, ऐसे में 24 को ही उत्सवी माहौल रहेगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned