जेडीए की कार्रवाई, युवक ने किया आत्महत्या का प्रयास

Umesh Sharma

Updated: 14 Jul 2019, 02:56:05 PM (IST)

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India


जयपुर
सीकर रोड पर नींदड़ आवासीय योजना में जेडीए (Jda) ने अवैध निर्माणों (Illigal Contruction) पर बुलडोजर चलाया। जेडीए की इस कार्रवाई का स्थानीय लोगों ने विरोध किया। एक युवक ने तो फांसी का फंदा लगाकर खुदकुशी ( Attempt Sucide) करने का प्रयास किया। इस दौरान आशियाना उजड़ता देख कुछ महिलाएं बेसुध भी हो गई। पुलिस की सहायता ने जेडीए ने सभी विरोध करने वाले लोगों को वहां से हटाया और 40 से ज्यादा निर्माणों को तोड़ा। जेडीए ने छिलावाली मोक्षधाम के पास ये कार्रवाई की।

दस्ते ने जेसीबी की मदद से कच्चे-पक्के मकानों को ध्वस्त कर दिया। करीब 11 बीघा भूमि पर लोगों ने अतिक्रमण कर रखा था। सीकर रोड पर हरमाड़ा के पास नींदड़ आवासीय स्कीम 1296 बीघा में बसाई जानी है। इसमें 800 बीघा जमीन किसानों ने सरेंडर कर दी थी, जबकि 280 बीघा जमीन जेडीए खातेदारी व 120 बीघा जमीन मंदिर माफी की है। योजना के विरोध में किसानों ने नगेंद्र सिंह शेखावत के नेतृत्व में 40 दिन तक जमीन समाधि सत्याग्रह भी किया था।

बरसों से लंबित है योजना
स्कीम की प्लानिंग 2009 में हुई। इसके बाद अक्टूबर 2010 और नवंबर 2011 में खातेदारों को नोटिस दिए गए। इसी दौरान भूमि अवाप्ति अधिनियम में बदलाव की मुहिम चली। जेडीए ने नए नियम से पहले ही 31 मई, 2013 को अवार्ड जारी कर दिया। नया अधिनियम जनवरी 2014 से लागू हुआ। इधर, स्कीम में मंदिर माफी की जमीन का रेफरेंस केस रेवेन्यू बोर्ड व हाईकोर्ट में है। जेडीए ने 2010 की डीएलसी के अनुसार 30 लाख रुपए प्रति बीघा का मुआवजा बनाने हुए 50 करोड़ कोर्ट में जमा करवा दिए। 100 परिवारों को कुछ नहीं मिला।

एक सप्ताह पहले दिए थे नोटिस
जेडीए दस्ता जैसे ही मौके पर पहुंचा वहां मौजूद लोगों में हलचल मच गई। जेडीए ने सबसे पहले वो निर्माण हटाए, जहां पर बाउंड्रीवॉल बनाकर अतिक्रमण कर रखा था। जेडीए ने यहां बने मकानों में रहने वाले लोगों को एक सप्ताह पहले नोटिस दिया था। नोटिस अवधि पूरी होने के बाद जेडीए ने कार्रवाई की। जेडीए टीम ने जिन मकानों में लोग रहते थेए उनका सामान घरों से बाहर निकाल दिया।

भूमाफिया चिन्हित, कार्रवाई करेगा जेडीए

जोन 12 उपायुक्त सुभाष महरिया ने बताया कि जिन लोगों ने इस जमीन पर निर्माण कर रखा था, उनका कहना है कि कुछ लोगों को उन्होंने २० से ५० हजार रुपए देकर ये जमीन ली है। बातचीत के आधार पर यहीं रहने वाले कुछ भूमाफिया चिन्हित कर लिए गए हैं। लोगों से जो पैसे लिए गए हैं, उसके साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं। सरकारी जमीन को बेचना अपराध है। इन सभी भूमाफिया पर कार्रवाई की जाएगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned